September 24, 2020

अमावस्या की काली रात और पाक की काली करतूत

  • पुलवामा हमला: एनआईए ने तैयार की 5,000 पन्नों की चार्जशीट
  • पाकिस्तान से कंदे पर उठाकर आतंकी लाए थे आरडीएक्स

नई दिल्ली/श्रीनगर, 26 अगस्त (एजेंसी)। जम्मू-कश्मीर स्थित पुलवामा में केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवानों के काफिले पर हुए हमले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने 5000 पन्नों की चार्जशीट फाइल की है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चार्जशीट में पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद और उसके सरगना मसूद अजहर, रुउफ असगर का नाम बतौर आरोपी शामिल किया गया है। एनआईए ने अपनी जांच में पाया है कि हमले में इस्तेमाल किए गए 20 किलो आरडीएक्स पाकिस्तान से लाया गया था। जानकारी के मुताबिक एनआईए की चार्जशीट में कहा गया है कि आरडीएक्स समेत अन्य विस्फोटक आतंकी पीठ पर पाकिस्तान से लाद कर लाए। इसके साथ ही बताया गया एक अन्य आरोपी इकबाल रादर इस हमले के पहले उमर फारूक नाम के एक आतंकी को रात के अंधेरे में सीमा पार करा कर घाटी में लाया था।
एनआईए को इस बात के वीडियो सबूत भी मिल हैं जिनमें अमावस्या यानी अंधेरी रात में घुसपैठ करने की रणनीति का जिक्र किया गया है। जांच एजेंसी को यह वीडियो उमर फारुक के फोन में मिला है। इस फोन के जरिए एजेंसी को पूरे प्लान के बारे में पता चला है कि जिसके जरिए आतंकी भारतीय सीमा में आए। सूत्रों के अनुसार चार्जशीट में कहा गया है कि आतंकियों ने हमले में इस्तेमाल किए गए अमोनियम नाइट्रेट और नाइट्रो ग्लिस्रीन सरीखे पदार्थ स्थानीय स्तर पर ही इक_ा किए थे। कहा गया है कि आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर में इन विस्फोटकों को ऑनलाइन भी खरीदा था।

40 जवान हो गए थे शहीद
साल 2019 में हुए पुलवामा हमले से जुड़ी यह चार्जशीट जम्मू स्थित एनआईए की विशेष अदालत में दाखिल किए हैं। गौरतलब है कि इस हमले को अंजाम देने वाला आदिल अहमद डार समेत इसमें इस्तेमाल हुए आरडीएक्स को बनाने वाला कामरान, सीमा पार से आया आतंकी उमर फारुक एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं। इस मामले में अभी तक सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एनआईए जांच में यह बात सामने आई है कि आतंकी हमला करने वाले डार समेत अन्य आतंकियों के पास से महंगे फोन मिले हैं जिसमें आतंकी हमले से पहले की कई योजनाएं और तस्वीरें बरामद हुई हैं। जांच में सामने आया है कि लेथपोरा में फर्नीचर की दुकान करने वाले शख्स ने आतंकी डार को अर्धसैनिक बलों के काफिले की पूरी जानकारी दी जिसके बाद इस हमले को अंजाम दिया गयाष इस आतंकी में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे और कई घायल हो गए।