Wed. Feb 19th, 2020

अमेरिकी डेयरी प्रॉडक्ट के लिए भारत खोल सकता है अपने बाजार, डील संभव

नई दिल्ली! अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप 24 फरवरी को भारत आ रहे हैं और इसकी तैयारी जोरों पर है। खुद पीएम मोदी उनका स्वागत करेंगे। उम्मीद की जा रही है कि दोनों देशों के बीच ट्रेड डील की दिशा में बात आगे बढ़ेगी। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, भारत सरकार ने अमेरिका के लिए अपने डेयरी और पॉल्ट्री बाजार को खोलने का फैसला किया है।

केवल 10 फीसदी टैरिफ की मांग
सरकारी सूत्रों के मुताबिक, भारत सरकार ने अमेरिका से चिकन लेग्स ऐंड टर्की, ब्लूबेरी और चेरी आयात को मंजूरी देने का फैसला किया है। चिकन लेग्स पर 100 फीसदी के मुकाबले केवल 25 फीसदी टैरिफ लगेगा, हालांकि अमेरिका चाहता है कि इसपर केवल 10 फीसटी टैरिफ लगे। डेयरी मार्केट में भी अमेरिका की एंट्री हो सकती है।

दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है भारत
भारत विश्व में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है। ग्रामीण इलाकों में रहने वाले करीब 80 मिलियन (8 करोड़) परिवारों के लिए पशुपालन जीवन का आधार है। इसलिए भारत ने इस बाजार को विदेशी पहुंच से अब तक दूर रखा था, लेकिन पीएम मोदी नहीं चाहते हैं कि अमेरिका के साथ उसके व्यापारिक रिश्ते और कमजोर हो।

2019 में GSP दर्जा वापस लिया गया था
डॉनल्ड ट्रंप ने 2019 में भारत को मिले GSP (जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस) दर्जा वापस ले लिया था, जिससे करीब 5 अरब डॉलर के निर्यात पर असर पड़ा था। हाल ही में अमेरिका ने भारत को उन विकासशील देशों की सूची से हटा दिया है, जिन्हें अमेरिकी की काउंटरवेलिंग ड्यूटी (CVD) से छूट हासिल है। यह छूट देने के लिए यह देखा जाता है कि ये देश सब्सिडी एक्सपोर्ट के जरिए अमेरिकी इंडस्ट्री को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहे हैं।

चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा ट्रे़ड पार्टनर है अमेरिका
व्यापार की बात करें तो अमेरिका चीन के बाद भारत का सबसे बड़ा ट्रेड पार्टनर है। 2018 में दोनों देशों के बीच ट्रेड 142.60 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। 2019 में अमेरिका का भारत के साथ गुड्स ट्रेड डेफिसिट (व्यापार घाटा) 23.20 अरब डॉलर का रहा था।