Wed. Feb 19th, 2020

अवैध हथियारों के मामले में कोटा जिला अव्वल

जयपुर, 14 फरवरी। प्रदेश का कोटा जिला अवैध हथियारों के मामले में अव्वल है। जी हां राजस्थान विधानसभा में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में यह खुलासा हुआ है। जवाब के मुताबिक 1 जनवरी 2019 से 31 दिसंबर 2019 तक अवैध हथियारों के दर्ज प्रकरणों में कोटा जिला अव्वल है। इस दौरान कोटा शहर में 1073 और कोटा ग्रामीण में 980 प्रकरण अवैध हथियारों के दर्ज हुए है। इसके बाद झालावा? जिला हैए यहां पर एक वर्ष में 762 मामले दर्ज हुए है।
आंकड़ों के मुताबिक बूंदी में 409, उदयपुर में 403, प्रतापगढ़ में 184, जीआरपी अजमेर में 160, भिवाड़ी में 162, भरतपुर में 176, भीलवाड़ा में 130, धौलपुर में 121, करौली में 127, नागौर में 111, जोधपुर पश्चिम में 114, श्रीगंगानगर 130, जयपुर पूर्व में 100, अलवर में 119 मामले अवैध हथियारों के दर्ज हुए हैं। वहीं सबसे कम मामले डूंगरपुर जिले में यानी सिर्फ 3 मामले ही दर्ज हुए हैं। विधानसभा के प्रश्न के मुताबिक अगर 1 जनवरी 2019 से 31 दिसंबर 2019 तक वैध हथियार के लिए जारी किए गए लाइसेंसों पर नजर डालें तो पुलिस आयुक्त जयपुर के यहां से 74, सवाईमाधोपुर जिले में 31, चित्तौडग़ढ़ जिले में 63, दौसा में 30, अजमेर में 25, भीलवाड़ा में 22, जोधपुर में 21, पाली में 22, पुलिस आयुक्त जोधपुर में 22 वैध हथियार रखने के लाइसेंस जारी हुए हैं। जबकि इस दौरान जैसलमेर, करौली में एक भी लाइसेंस जारी नहीं हुआ है। वहीं 280 से ज्यादा लोग वर्ष 2019 में पकड़े गए हैं जो पूर्व में भी अवैध हथियारों के धंधे में लिप्त रहे हैं। इस सूची में भी कोटा और झालावाड़ से सबसे ज्यादा आरोपियों के नाम है।