October 30, 2020

आरएलपी, बसपा व आप भी चुनावी रण में

  • बीजेपी-कांग्रेस का करेंगे मुकाबला
  • प्रत्याशी चयन की प्रक्रिया शुरू

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 16 अक्टूबर। राजधानी जयपुर, जोधपुर और कोटा के 6 नगर निगम के लिये हो रहे चुनाव बीजेपी और कांग्रेस के साथ ही अन्य दलों ने भी कमर कस ली है। इन चुनावों में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अलावा आम आदमी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी भी भाग्य आजमायेगी। आप और बसपा भी सभी 6 निगमों में अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। ये पार्टियां चुनावी रण की तैयारियों में जुट गई हैं। इन पार्टियों ने भी प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। नहालांकि अभी तक बीजेपी और कांग्रेस समेत किसी भी पार्टी ने अपने प्रत्याशियों की कोई सूची जारी नहीं की । इसके चलते अभी नामांकन का कार्य बेहद सुस्त चल रहा है। सभी 6 नगर निगमों में कुछ एक ही निर्दलीय उम्मीदवारों ने अपने नामांकन-पत्र दाखिल किए हैं। अभी दावेदार टिकट की जुगत में नेताओं के घर चक्कर लगाने में व्यस्त हैं।

बसपा ने आवेदन लेने शुरू किए
बसपा के प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा ने कहा कि पार्टी जयपुर, जोधपुर और कोटा के सभी नगर निगमों में अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। बाबा के अनुसार 1 साल पहले हुये निकाय चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन अच्छा रहा था। विभिन्न जिलों में पार्टी के 24 पार्षद विजयी हुए थे। इस बार भी पार्टी पूरे दमखम के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी। चुनाव के लिये पार्टी ने इच्छुक दावेदारों के आवेदन लेने शुरू कर दिये हैं।

आरएलपी ने भी की घोषणा
गुरुवार को नागौर में सांसद एवं आरएलपी संयोजक हनुमान बेनीवाल ने बताया कि पार्टी पदाधिकरियों से हुई चर्चा के बाद इन चुनावों में उतरने का निर्णय लिया गया है। जयपुर, जोधपुर और कोटा तीनों शहरों के सभी 6 नगर निगमों के लिये पार्टी के प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे जायेंग।पार्टी स्वतंत्र रूप से यह चुनाव लड़ेगी. बेनीवाल ने कहा कि हम पर चुनाव लडऩे के लिये जनभावनाओं का दबाव है। नगर निगम चुनाव में बीजेपी के साथ अभी गठबंधन की कोई बातचीत नहीं हुई है। पार्टी ने चुनाव का कामकाज देखने के लिये तीनों शहरों में अपने तीनों विधायकों को प्रभारी बनाया है।

एनडीए का घटक दल है आरएलपी
उल्लेखनीय है कि आरएलपी राजस्थान में एनडीए का घटक दल है। पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनाव पार्टी ने बीजेपी के साथ गठबंधन करके लड़े हैं। राजस्थान की लोकसभा की कुल 25 सीटों में से 24 पर बीजेपी के सांसद है। वहीं नागौर सीट बीजेपी ने गठबंधन के तहत आरएलपी के लिये छोड़ी थी। इस पर आरएलपी के संयोजक हनुमान बेनीवाल विजयी हुये थे। उनके सांसद बनने के बाद खाली हई खींवसर विधानसभा सीट भी बीजेपी ने गठबंधन के तहत आरएलपी को दी थी। उस पर बेनीवाल के छोटे भाई नारायण बेनीवाल जीते थे। आरएलपी के प्रदेश में तीन विधायक हैं। बेनीवाल ने पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान अपनी नई पार्टी का गठन किया था। पार्टी का जनाधार अभी ग्रामीण इलाकों में ज्यादा है। इनमें भी पश्चिम राजस्थान में पार्टी ने गत विधानसभा चुनावों में अच्छे वोट प्राप्त किये थे। नगर निगम के चुनावों के लिये नामांकन कार्य शुरू हो चुका है लेकिन अभी तक किसी भी पार्टी ने प्रत्याशियों की सूची जारी नहीं की।