September 20, 2020

आषाढ़ शुक्ल प्रतिपदा के साथ आज से शुरू हुए गुप्त नवरात्र

इस बार 8 दिन के होंगे गुप्त नवरात्र

जयपुर, 22 जून। आषाढ़ शुक्ल प्रतिपदा पर आज से गुप्त नवरात्र की शुरूआत हो गई। इस बार पंचमी तिथि और षष्ठी तिथि एक दिन होने से गुप्त नवरात्र आठ दिन के होंगे। इन आठ दिनों में साधक गुप्त स्थान या एकांत पर रहकर साधना करेंगे। दुर्गा माता हाथी पर बैठकर आएगी और भैंसे पर विदा होगी।
ज्योतिषाचार्यो ने बताया कि गुप्त नवरात्र आज से शुरू होकर अगले सोमवार तक रहेंगे। शुक्रवार को पंचमी और षष्ठी एक दिन आएगी। ऐसे में नवरात्र आठ दिन के रहेंगे। इस बीच 6 दिन करीब 9 योग रहेंगे। 26 जून को कुमार योग, रवि योग और सर्वार्थसिद्धि योग रहेगा। आठ दिन साधक गुप्त स्थान या एकांत पर रहकर साधना करेंगे। ज्योतिषाचार्यो की माने तो गुप्त नवरात्र में देवी मां हाथी पर बैठकर आती और भैंसे पर विदा होती है। देवी का हाथी पर आगमन होने से बारिश में अधिक पानी बरसने की संभावना रहती है और भगवती की विदाई भैंसे पर होगी, जिससे रोगों में कमी होती है। देवी भागवत पुराण के अनुसार वर्ष में 4 बार नवरात्र आते हैं।
जिस प्रकार नवरात्र में देवी के 9 रूपों की पूजा होती है, ठीक उसी प्रकार गुप्त नवरात्र में 10 महाविद्याओं की साधना की जाती है। गुप्त नवरात्र विशेष कर तांत्रिक, शक्ति साधनाएं, महाकाल आदि से जुड़े लोगों के लिए विशेष महत्व रखते है।

गुप्त नवरात्र में ये रहेंगे संयोग

  • 23 जून को त्रिपुष्कर योग सुबह 5.38 बजे से 11.20 तक रहेगा। इसी दिन राजयोग दोपहर 1.33 बजे शुरू होगा, जो 24 जून को सुबह 10.15 बजे तक रहेगा।
  • 24 जून को रवि योग दोपहर 1.10 बजे से 25 जून को दोपहर 12.27 बजे तक रहेगा।
  • 26 जून को कुमार योग सुबह 5.39 बजे से सुबह 11.26 बजे तक रहेगा, इसी दिन रवियोग और सर्वार्थसिद्धि योग 11.26 बजे शुरू होंगे, जो सम्पूर्ण दिन रहेंगे।
  • 27 जून को रवि योग सुबह 10.11 बजे तक रहेगा। इसी दिन त्रिपुष्कर योग सुबह 10.11 बजे से रात 2.54 बजे तक रहेगा।
  • 28 जून को सर्वार्थसिद्धि योग सुबह 5.39 बजे शुरू होगा, जो सम्पूर्ण दिन—रात रहेगा, इस दिन अमृतसिद्धि योग सुबह 8.46 बजे शुरू होगा, जो सम्पूर्ण दिन रहेगा।
  • 29 जून को रवि योग सुबह 7.14 बजे से सम्पूर्ण दिन—रात रहेगा।