September 23, 2020

ईपीएफ सदस्यों ने 25 मार्च से 31 अगस्त तक निकाले 39.4 करोड़ रुपए

नई दिल्ली, (एजेंसी)। कर्मचारी भविष्य निधि ( ईपीएफ) के सदस्यों ने 25 मार्च से 31 अगस्त के बीच 39,402.94 करोड़ रुपए निकाले हैं। कल संसद में इसकी जानकारी दी गई। उल्लेखनीय है कि सरकार ने कोरोना महामारी के खतरे को देखते हुए 25 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन लागू किया था। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने लोकसभा में एक लिखित जवाब में कहा कि ईपीएफ खातों से कुल निकासी इस साल 25 मार्च से 31 अगस्त तक 39,402.94 करोड़ रुपए रही। 25 मार्च से 31 अगस्त तक ईपीएफ से निकाली गई राशि में महाराष्ट्र सबसे आगे रहा, यहां 7,837.85 करोड़ रुपए निकाले गए। इसके बाद कर्नाटक 5,743.96 करोड़ रुपए और तमिलनाडु (पुदुचेरी सहित) 4,984.55 करोड़ रुपए निकाले गए। इस अवधि के दौरान दिल्ली में कुल ईपीएफ निकासी 2,940.97 करोड़ रुपए थी। मंत्री ने सदन को बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक व्यवधान के कारण मजदूरों को होने वाली कठिनाइयों को दूर करने के लिए श्रम और रोजगार मंत्रालय ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई) के हिस्से के रूप में विभिन्न पहल की गई हैं। इनमें कर्मचारियों के भविष्य निधि (ईपीएफ) के तहत 12 फीसद नियोक्ताओं के हिस्से का भुगतान और 12 फीसदी कर्मचारियों का हिस्सा शामिल है। इसके अलावा, सरकार ने मई, जून और जुलाई के वेतन महीनों के लिए ईपीएफ योगदान को 12 फीसदी से घटाकर 10 फीसदी कर दिया।