September 19, 2020

उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज छिवकी स्टेशन को पार्सल बुकिंग के लिए खोला’

महाप्रबंधक चौधरी ने वीसी के माध्यम से झांसी मंडल के ऑनलाइन ओपीडी एप्वाइंटमेंट वेब एप्लिकेशन और ग्वालियर से इटावा तक नई ओएफसी कनेक्टिविटी का किया उद्घाटन

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 26 अगस्त। उत्तर मध्य एवं उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने उत्तर मध्य रेलवे के प्रमुख विभागाध्यक्षों एवं प्रयागराज, झांसी और आगरा मंडल के मंडल रेल प्रबंधकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान झांसी मंडल चिकित्सालय के लिए ऑनलाइन ओपीडी एप्वाइंटमेंट वेब एप्लिकेशन तथा झांसी मंडल के ग्वालियर से इटावा खंड के लिए बिछाई गई ऑप्टिकल फाइबर केबल (ओएफसी) का उद्घाटन किया। वहीं, उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज छिवकी स्टेशन को पार्सल बुकिंग के लिए खोल दिया है। झांसी मंडल ने मंडल रेल चिकित्सालय झांसी में डॉक्टर के साथ ओपीडी सलाह के लिए एक वेब और मोबाइल आधारित एप्लिकेशन लॉन्च किया है। रेलवे चिकित्सा सुविधा के लाभार्थी गूगल प्ले स्टोर में उपलब्ध इस एप्लिकेशन के माध्यम से, विशेषज्ञ चिकित्सक या सामान्य ओपीडी का एप्वाइंटमेंट तय कर सकते हैं और रोगियों की संख्या, डॉक्टरों की उपलब्धता आदि के आधार पर स्वचालित रूप से आवेदन के आधार पर एप्वाइंटमेंट की तारीख तथा समय स्लॉट की पुष्टि की जा सकती है। संबंधित डॉक्टर और मरीज के लिए सुविधाजनक होने के साथ, यह एप्लिकेशन कोविड-19 के दौरान भीड़ नियंत्रण में भी मदद करेगा, क्योंकि रेलवे कर्मचारी को ओपीडी सलाह की तारीख और समय की पूर्व सूचना होगी, जिसे इस एप का उपयोग करके एप्वाइंटमेंट को सात दिन पहले बुक किया जा सकता है। इस ओपीडी एप्लिकेशन का उद्घाटन करते हुए महाप्रबंधक चौधरी ने कहा कि अल्फा-न्यूमेरिक इनपुट के माध्यम से सामान्य मोबाइल फोन पर भी इस सुविधा के उपयोग के लिए प्रावधान किया जाना चाहिए और जब तक इसे लागू नहीं किया जाता है, तब तक चिकित्सालय के रिसेप्शन डेस्क पर कॉल करके एपोनिंटमेण्य की सुविधा उपलब्ध कराई जानी चाहिए। यह परिवर्तन इस एप को उपयोगकर्ता के अधिक अनुकूल बना देगा और रेलवे कर्मचारियों के बीच इसकी व्यापक पहुंच होगी। इसके अतिरिक्त महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने वीडियो लिंक के माध्यम से झांसी मंडल के ग्वालियर-इटावा खंड में नवस्थापित ओएफसी कनेक्टिविटी का भी उद्घाटन किया।

लक्ष्य चार माह में ही किया पूरा
ग्वालियर-इटावा खंड में 8.88 करोड़ रुपए की लागत से स्वीकृत 116 किलोमीटर लंबे ओएफसी कनेक्टिविटी का कार्य उत्तर मध्य रेलवे की परियोजना इकाई द्वारा नवंबर-2020 के लक्ष्य से 4 महीने पहले ही पूरा कर लिया है। ओएफसी आधारित उच्च गति रेलनेट के माध्यम से यूटीएस, पीआरएस, एफओआईएस, सीओआईएस और अन्य महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों, स्टेशनों पर वाईफाई आदि को बेहतर करने में मदद मिलेगी, जिससे इस खंड में यात्री और माल ढुलाई सेवाओं में काफी सुधार होगा। इस ओएफसी कनेक्टिविटी से इस खंड में फेल सेफ और कुशल इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग की स्थापना का मार्ग भी प्रशस्त होगा, जिससे ट्रेन संचालन में सुरक्षा, गति और दक्षता आएगी। इस कनेक्टिविटी के साथ अब झांसी मंडल का संपूर्ण ब्रॉड गेज (बीजी) नेटवर्क विश्वसनीय और तेज ओएफसी के माध्यम से जुड़ गया है। चौधरी ने उत्तर मध्य रेलवे परियोजना इकाई, झांसी मंडल, डॉक्टरों की टीम को ऑनलाइन ओपीडी एप्वाइंट मेंट वेब एप्लिकेशन बनाने और ग्वालियर से इटावा में ओएफसी बिछाने के प्रयासों को सराहा और कोविड-19 संकट के बावजूद सराहनीय तरीके से कार्य करने के लिए समूह पुरस्कारों की घोषणा की।

यह दिए निर्देश
रेल परिचालन में संरक्षा की स्थिति की समीक्षा करते हुए, महाप्रबंधक चौधरी ने मंडलों को निर्देशित किया कि रेल समपारों पर रोड क्रॉसिंग सतह, सड़क संकेतों उपलब्धता, उनकी दृश्यता, स्पीड ब्रेकरों की स्थिति, साइनेज की उपलब्धता आदि की जांच की जानी चाहिए और किसी भी कमी को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। ट्रेन संचालन से जुड़े रनिंग स्टॉफ को उनके लिए निर्धारित सेक्शन से पूरी तरह परिचित कराने के लिए उनको रोड लर्निंग दी जाती है ताकि, उनको सिग्नल के स्थान, स्थायी गति प्रतिबंध आदि सहित उस सेक्शन की प्रत्येक विशेषता से परिचित कराया जा सके। रेलवे का यह महत्वपूर्ण अभ्यास रेल खंड की विशेषताओं पर पर्याप्त ज्ञान के साथ रनिंग स्टाफ को संरक्षायुक्त और कुशल ट्रेन संचालन में सहायक होती है।