September 26, 2020

एमएसएमई उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सिडबी से एमओयू

जयपुर, 12 सितंबर। राज्य के एमएसएमई उद्यमों को वित्तीय, तकनीकी, विपणन, निर्यात और अन्य सहयोग व समन्वय के लिए उद्योग विभाग व सिडबी साथ मिलकर काम करेंगे। इस संबंध में कल सचिवालय में उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा की उपस्थिति में उद्योग विभाग व सिडबी के बीच एक करार हुआ। प्रमुख सचिव उद्योग नरेश पाल गंगवार के सानिध्य मेें उद्योग विभाग की ओर से आयुक्त अर्चना सिंह और सिडबी की ओर से महाप्रबंधक बलबीर सिंह ने हस्ताक्षर किए गए। इस मौके पर उद्योग मंत्री मीणा ने बताया कि राज्य में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए एमएसएमई एक्ट मेें संशोधन कर राजउद्योगमित्र के माध्यम से पंजीयन कर तत्काल उद्योग शुरु करने का अवसर देते हुए सभी तरह की अनुमतियों व निरीक्षणों से तीन साल के लिए मुक्त किया है। उन्होंने बताया कि अब वन स्टॉप शॉप आने से बड़े उद्योगों की स्थापना भी आसान हो जाएगी। उद्योग मंत्री ने बताया कि सूक्ष्म, लघु एवं मध्य उद्यमों द्वारा ही सर्वाधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाते हैं। वहीं निर्यात में भी इनकी प्रभावी हिस्सेदारी है। ऐसे में राज्य सरकार एमएसएमई उद्यमों की समस्याओं को समझने और उनके निराकरण के कदम उठा रही है। सिडबी के साथ समझौता भी इसी दिशा में बढ़ता कदम है। उन्होंने बताया कि एमएसएमई काउंसिल को एक से बढ़ाकर चार कर दिया है और अब सभी संभाग स्तर पर स्थापित करने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि सिडबी और उद्योग विभाग के संयुक्त प्रयासों से और बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे।