Wed. Jul 17th, 2019

कर्ज माफी पर हंगामा, वॉक आउट

मंत्री उदयलाल आंजना के जवाब से विपक्ष नहीं हुआ संतुष्ट

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 13 जुलाई। विधान सभा के बजट सत्र में शुक्रवार को शून्यकाल से लेकर प्रश्नकाल तक प्रदेश की जनता से जुड़े मुददों की गूंज होती रही। प्रश्नकाल में किसान कर्ज माफी का मुद्दा गूंजा और विपक्ष ने सदन से वॉक आउट किया। उधर सत्ता पक्ष के विधायक ने प्रदेश में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्रों पर दसवीं पास योग्यताधारी शिक्षक लगाने पर एतराज जताया। प्रदेश में श्रमिकों की स्थिति को लेकर भी प्रश्नकाल से लेकर शून्यकाल तक विधायक मामले उठाते रहे। विधान सभा में प्रश्नकाल में भाजपा के निर्मल कुमावत ने प्रदेश में किसान कर्जमाफी लेकिन मंत्री सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने जो जवाब दिया उससे विपक्ष के विधायक संतुष्ट नहीं हुए। इस पर नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने नाराजगी जताई और हंगामा शुरू हो गया। अध्यक्ष के सख्ती दिखाने पर विपक्ष के विधायकों ने सदन से वॉक आउट कर दिया। भाजपा विधायक किसान कर्ज माफी के मुददे पर पूरक प्रश्न भी पूछना चाहते थे लेकिन अध्यक्ष डॉ.सीपी जोशी ने इसकी अनुमति नहीं दी। असल में विधायक निर्मल कुमावत ने प्रदेश में किसान कर्जमाफी का मामला उठाया था लेकिन मंत्री उदयलाल आंजना आधा अधूरा ही जबाव दे सके। मंत्री आंजना ने कहा कि प्रदेश में 19 हजार किसानों की 7 हजार करोड़ रुपए की कर्ज माफी हो चुकी है। नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने पूछा कि क्या किसानों को खाते में रकम पहुंच गई है या फिर सिर्फ बातें ही हो रही है। इस पर मंत्री ने कहा कि कर्ज माफी के लिए किसानों को सिर्फ प्रमाण पत्र ही दिए जाएंगे।

आंगनबाड़ी केन्द्रों का मामला उठाया
विधायक हरीश चन्द्र मीणा ने प्रदेश के आंगनबाड़ी केन्द्रों में 10वीं कक्षा पास युवकों द्वारा पढ़ाने का मामला उठाया। इस पर महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश ने कहा कि प्रदेश में 60 हजार से ज्यादा आंगनबाड़ी केन्द्र हैं और 58 हजार आंगनबाडी कार्यकर्ता और 52 हजार सहायिका है। सरकार प्रदेश के प्रति आंगनबाड़ी पर 16 हजार 100 रुपए खर्च करती है। विधायक हरीश मीणा ने कहा कि महज दसवीं पास योग्यता धारी वहां पढा रहे हैं जबकि पढाने का काम एक्सपर्ट का होता है। इन आंगनबाड़ी पर कार्यकर्ताओं को लगाया है और तो बच्चों के भविष्य में बच्चे के साथ क्या होगा। इस पर मंत्री ममता भूपेश ने कहा कि आंगनबाडी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की क्वालिफिकेशन 10वीं और 12वीं मिनिमम कर दी गई है। हर महीने आंगनबाडी कार्यकर्ता और अभिभावकों के बीच संवाद होता है। ये कार्यकर्ता बच्चों को बेहतर तरीके से संभाल रहे हैं।

दूषित पानी बेचने का आरोप
विधायक चन्द्रभान सिंह आक्या ने चितौडग़ढ़ में अवैध आरओ प्लांट का मामला उठाया। आक्या ने कहा कि अवैध आरओ प्लांट दूषित पानी बेचा जा रहा है। अवैध आरओ प्लांट चलाने वालों के खिलाफ क्या कार्यवाही की गई। इस पर वन मंत्री सुखराम विश्नोई ने कहा कि शिकायत मिलने पर कार्यवाही होती है। स्थानीय लोगों ने एनजीटी में शिकायत की थी। शिकायतों पर क्या कार्यवाही की उसका जवाब दो।

स्टेडियम के निर्माण में अनियमितता
विधायक शंकर सिंह रावत ने ब्यावर में पृथ्वीराज चौहान स्टेडियम के निर्माण में हुई अनियमिताओं का मामला उठाया। इस पर खेल मंत्री अशोक चांदना ने कहा कि ये मेरे विभाग का सवाल नहीं है फिर भी इस मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाएंगे। हनुमानगढ जिले में संचालित सुलभ आवास योजना का सवाल भी उठाया। इस पर मंत्री टीका राम जूली ने बताया कि 28000 से ज्यादा मामले लंबित हैं लंबित आवेदनों का निस्तारण पहले आओ पहले पाओ पद्धति पर ऑनलाइन किया जाता है । निर्माण श्रमिकों का पंजीयन की पेंडेंसी रही है इस बात को भी मंत्री ने स्वीकार किया। जूली ने लंबित प्रकरणों में पिछली भाजपा सरकार को भी दोषी ठहराया।