October 23, 2020

कोरोना काल में चमका सोना

दिसंबर में और बढ़ेगी कीमत

नई दिल्ली, (एजेंसी)। लॉकडाउन और अनलॉक के दौर में अर्थव्यवस्था बेशक चित हो गई हो, लेकिन सोने की चमक बरकरार रही। तमाम कारोबारी गतिविधियां बंद होने के बाद भी सोने के भाव में जबरदस्त तेजी रही। लॉकडाउन के पहले दो महीने में तो कीमतों में जबरदस्त उछाल आया। अब तो सभी रिकॉर्ड टूट गए हैं।  सोना कारोबारियों का अनुमान है कि दिसंबर से कीमतें आसमान छू जाएंगी। क्योंकि, उस समय शादियों व अन्य आयोजनों का सीजन शुरू हो जाएगा। महंगाई होने के कारण है कि कोरोना काल में सोने की मांग तेजी से बढ़ी है। रुपए से भरोसा घटने के बाद लोगों ने इसमें निवेश किया। जनवरी व फरवरी में कीमत 41 हजार प्रति 10 ग्राम थी, जो अप्रैल-मई में 50 हजार तक पहुंच गई।

जनवरी से मार्च तक बिका 250 टन सोना : सोने की खरीदारी सबसे अधिक लॉकडाउन से पहले यानी जनवरी से मार्च में हुई। व्यापार में भी काफी उछाल आया और खरीदारी भी जमकर हुई। इस दौरान 10 से 12 प्रतिशत अधिक खरीदारी की गई। इस दौरान कीमत 38 से 41 हजार के करीब रही। देश में 200 से 250 टन सोना बिका तो वहीं दिल्ली में 25 टन के करीब बिक्री हुई। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जैसे ही लॉकडाउन की घोषणा हुई तो सोने की कीमत में अचानक उछाल आया। लोगों को लगा कि बंदी के दौर में जितना संचित कर लो उतना ही बेहतर। इस दौरान देखें तो ज्वैलरी का व्यापार महज 2-5 प्रतिशत ही हुआ, लेकिन भाव 41 हजार से बढ़कर सीधा 50 हजार तोला तक पहुंच गया। अचरज की बात है कि मांग नहीं बढ़ी, लेकिन सोने के भाव आसमान पर पहुंच गए। इस दौरान 1-2 टन के करीब सोने की खरीदारी हुई।