October 26, 2020

कोरोना के चलते बंद रहेगा आमेर शिला माता मंदिर

  • मंदिर में सुबह 7.05 बजे होगी घट स्थापना
  • 31 अक्टूबर तक बंद रहेगा मंदिर

जयपुर, 16 अक्टूबर। कोरोना संक्रमण की फैलती रफ्तार को देखते हुए इस सभी तीज-त्यौहारों का रंग फीका ही रहा। इसी तरह कल से शुरू होने जा रहे शारदीय नवरात्रा में भी लोगों को जयपुर के आमेर स्थित शिला माता के दर्शन नहीं हो पाएंगे। मंदिर प्रबंधन समिति ने मंदिर को कोरोना के चलते 31 अक्टूबर तक आमजन के प्रवेश के लिए बंद रखने का फैसला किया है। द्वितीय आश्विन प्रतिपदा पर कल यानी शनिवार से शारदीय नवरात्र शुरू हो रहे है। आमेर शिला माता मंदिर भले ही दर्शनार्थियों के लिए बंद रहे, लेकिन वहां पूरे विधि-विधान के साथ घट स्थापना सुबह 7 बजकर 05 मिनट पर होगी। वहीं शहर के अन्य दुर्गा मंदिरों में घट स्थापना की जाएगी।
शिला माता मंदिर के पुजारी बनवारी शर्मा ने बताया कि घट स्थापना सुबह 7.05 बजे होगी। 23 अक्टूबर केा रात 10 बजे निशा पूजा होगी। 24 अक्टूबर को शाम 4.30 बजे नवरात्र पूर्णाहुति होगी। वहीं पंचवटी सर्किल स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में नवरात्रा स्थापना 17 अक्टूबर को दोपहर 12.51 बजे होगी। इसके बाद दोपहर 1.30 बजे महाआरती होगी। इससे पहले कल मंदिर में मनमोहक सजावट की गई। इस बार मंदिर में विशेष लाइटिंग की गई है। वैष्णो देवी सेवा समिति के अध्यक्ष सुभाष भाटिया ने बताया कि नवरात्र में मंदिर के दर्शन का समय प्रतिदिन सुबह 6.30 बजे से 11.30 बजे तक और शाम 5.30 बजे से रात 8.30 बजे तक रहेगा। मंदिर में भक्तों को कोविड-19 के लिए सरकार से जारी गाइड लाइन की पालना करते हुए प्रवेश करना है। भक्त सिर्फ माता के दर्शन कर सकेंगे, वहां प्रसाद, चुन्नी, नारियल नहीं चढ़ा सकेंगे।

घट स्थापना के लिए श्रेष्ठ समय
अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 49 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक रहेगा। ज्योतिषाचार्य पंडित दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि इस बार द्विस्वभाव लग्न और प्रात:काल का एक साथ नहीं आएगा। सुबह 6 बजकर 31 मिनट से 8 बजकर 47 मिनट तक प्रात: काल रहेगा। द्विस्वभाव लग्न सुबह 6 बजकर 31 मिनट तक ही रहेगा, जो पहले ही निकल जाएगा। इसके बाद द्विस्वभाव लग्न सुबह 11 बजकर 07 मिनट से दोपहर 1 बजकर 11 मिनट तक रहेगा। इस दौरान प्रात: काल नहीं मिलेगा।