September 25, 2020

कोरोना के प्रति जागरूकता बने सामाजिक आंदोलन: मुख्यमंत्री

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 16 सितंबर। कोरोना महामारी को हर व्यक्ति गंभीरता से लेते हुए अनिवार्य रूप से मास्क पहने, सोशल डिस्टेंसिंग रखे और हैल्थ प्रोटोकॉल की पूरी तरह से पालना करें तो लगातार बढ़ रहा कोरोना संक्रमण पूरी तरह से काबू में किया जा सकता है। वर्तमान समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है कि कोरोना के प्रति जागरूकता को एक सामाजिक आंदोलन का रूप दिया जाए।यह बात मंगलवार को कोरोना जागरूकता संवाद में विशेषज्ञ चिकित्सकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से पंचायत स्तर तक हुए संवाद के दौरान प्रमुखता से उभर कर आई। इस जागरूकता संवाद का रीजनल टीवी चैनल्स, सोशल मीडिया प्लेटफॉम्र्स-फेसबुक, यूट्यूब के अलावा 8 हजार से ज्यादा ई-मित्र प्लस सेंटर्स तथा वेबकास्ट के माध्यम से लाइव प्रसारण किया गया। इस कार्यक्रम के लाइव प्रसारण से राज्य व देश के अन्य भागों से लाखों लोग जुड़े। राज्य मंत्रिमण्डल के सदस्य, सांसद, विधायक, राज्य के प्रशासन व पुलिस के अधिकारी, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य, सीएमएचओ, पीएमओ एवं चिकित्सक, ग्राम पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधि व कार्मिक भी इस परिचर्चा का हिस्सा बने। इस ओपन प्लेटफॉर्म जागरूकता संवाद में देश के विख्यात चिकित्सक मेदान्ता हॉस्पिटल, गुरूग्राम के एमडी डॉ. नरेश त्रेहान, आईएलबीएस, नई दिल्ली के निदेशक डॉ. एसके सरीन, नारायणा हृदयालय, बैंगलोर के अध्यक्ष डॉ. देवी शेट्टी ने प्रभावी तरीके से पंचायत स्तर तक के लोगों को कोरोना बचाव के लिए उपयोगी जानकारी दी। विशेषज्ञ चिकित्सकों का मत था कि कोरोना के खिलाफ इस जंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे चिकित्सक, नर्सेज, पैरामेडिकल स्टॉफ, पुलिसकर्मी आदि का सम्मान किया जाए। पॉजिटिव मरीजों को भी सम्मान के भाव से देखा जाए, क्योंकि समय पर जांच करवाकर उन्होंने दूसरों को संक्रमित होने से बचाया है।

अभी तक प्रभावी कार्य किए
डॉ. नरेश त्रेहान ने कहा कि समाज के हर क्षेत्र के रोल मॉडल तथा सार्वजनिक जीवन में प्रभाव रखने वाले लोग मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी पालना कर उदाहरण पेश करें। राजस्थान सरकार ने अब तक कोरोना से मुकाबले के लिए प्रभावी कार्य किया है। डॉ. देवी शेट्टी ने कहा कि कोरोना प्रबंधन में देश और दुनिया ने बहुत कुछ सीखा है। उन्होंने कहा कि कोरोना जल्दी ही खत्म होने वाला नहीं है।