September 22, 2020

कोरोना जांच करवाओ, 6 घंटे में रिपोर्ट लो और विमान में बैठो

  • अब फ्लाइट में बैठने से पहले एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट, यात्री को ढीली करनी होगी जेब

नई दिल्ली, 14 सितम्बर (एजेंसी)। दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डीआईएएल) ने इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर देश का पहला एयरपोर्ट कोविड-19 टेस्टिंग फैसिलिटी लॉन्च कर ही है। यह सुविधा विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए होगी। सितम्बर के मध्य में इस फैसिलिटी पर हर रोज 2,500 सैंपल्स लिए जाएंगे। जरूरत पडऩे पर इस क्षमता को बढ़ाकर 15,000 सैंपल्स प्रति दिन किया जाएगा। हाल ही में डायल ने बताया था कि टर्मिनल 3 पर मल्टीलेवल कार पार्किंग में कोविड-19 टेस्टिंग फैसिलिटी सेटअप किया है। डीआईएएल ने यह टेस्टिंग फैसिलिटी जेनस्ट्रिंग्स डायग्नोस्टिक सेंटर के साथ मिलकर तैयार की है ताकि विदेशों से आने वाले यात्रियों को कनेक्टिंग घरेलू फ्लाइट्स लेने से पहले टेस्टिंग की जा सके।
जेनस्ट्रिंग्स डायग्नोस्टिंग सेंटर के निदेशक डॉ रजत अरोड़ा ने कहा, शुरुआत दिनों में हर रोज 2,500 सैंपल्स हैंडल करने के लिए हमने लैब को तैयार किया है। हम इसकी क्षमता बढ़ाकर 15,000 सैंपल्स प्रति दिन करने पर काम कर रहे हैं। यह फैसिलिटी 3,500 वर्ग फीट के एरिया में बना है। दिल्ली सरकार द्वारा निर्धारित एक टेस्टिंग के लिए पैसेंजर्स को 2,400 रुपये देना होगा। अरोड़ा ने कहा कि डीआईएएल और जीएमआर मैनेजमेंट एसओपी तैयार करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर काम कर रहा है ताकि लैब ऑपरेशन को सितंबर मध्य तक शुरू किया जा सके। जीएमआर ग्रुप की अगुवाई में डायल ही दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट की देखरेख और संचालन का काम करता है।

फैसिलिटी पर ही लैब टेस्टिंग
अरोड़ा ने बताया कि वैश्विक स्तर पर इंटरनेशनल एयरपोट्र्स पर टेस्टिंग के लिए जो सुविधाएं दी जाती है उसकी तुलना में हम दो अलग व नई सुविधा दे रहे हैं। पहला तो यह कि हम केवल सैंपल कलेक्शन सेंटर नहीं बना रहे हैं। बल्कि वास्तविक रूप में यह टेस्टिंग फैसिलिटी होगा जिसे एयरपोर्ट पर ही तैयार किया गया है।

6 घंटे में मिलेगी रिपोर्ट
दूसरा यह कि हमने सैंपल कलेक्ट करने के 6 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने की प्रतिबद्धता जताई है। यह दुनिया की सबसे तेज कोविड टेस्टिंग होगी। पैंसेजर्स को ऑनलाइन बुकिंग और पेमेंट की भी सुविधा दी जाएगी ताकि उन्हें सहूलियत भी मिले और संक्रमण बढऩे का खतरा भी न हो।

रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही ट्रैवल की अनुमति
नागर उड्डयन मंत्रालय ने बताया था कि भारत में लैंड करने के बाद कनेक्टिंग फ्लाइट लेने वाले इंटरनेशनल पैसेंजर्स को एयरपोर्ट एंट्री पर ही कोविड-19 टेस्टिंग का विकल्प दिया जाएगा। अगर आरटी-पीसीआर रिजल्ट निगेटिव आती है तो ही इंटरनेशनल पैसेंजर को कनेक्टिंग डोमेस्टिक फ्लाइट लेने की अनुमति दी जाएगी।