September 28, 2020

कोरोना: फैशन इंडस्ट्री की हालत भी खस्ता

  • नए मॉडल्स पर ज्यादा असर

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 8 सितम्बर। सतरंगी लाइट्स और फ्यूजन म्यूजिक के बीच रैम्प पर अपनी अदाओं का जलवा बिखरेती खूबसूरत मॉडल और फैशन की चमक को कोरोना ने फीकी कर दी है। अभी ना तो फैशन शोज की चमक देखने मिल रही है और ना ही खूबसूरत मॉडल्स की रैम्प पर अदाए। कुछ महीने पहले तक सफलता की बुलंदिया छू रहे फैशन उद्योग की भी हालत खस्ता है। उद्योग के जानकारों का कहना है कि कोरोना महामारी ने उन्हें एक दशक पीछे धकेल दिया है। कोरोना ने फैशन इंडस्ट्री और मॉडलिंग में अपनी करियर की संभावना तलाशने वाले युवक-युवतियों के सपनों पर ग्रहण लगा दिया है। जानकारों का कहना है कि जब पहले से स्थापित हो चुके जाने.माने मॉडल्स और फैशन डिजाइनर्स को ही काम नहीं मिल रहा है तो युवा मॉडल्स और डिजाइनर्स का अभी तो भविष्य ही खतरे में नजर आ रहा है। कोरोना काल से पहले फैशन इंडस्ट्री में करियर की काफी संभावनाएं थी लेकिन अब युवाओं की संभावनाएं खत्म होती नजर आ रही है।

मन में बैठा डर
मॉडल नीता सैमुअल और सिमरन शर्मा ने बताया कि कोरोना काल में ही वो खुद एक जगह शूट पर गई थीं लेकिन वहां भी दूसरी मॉडल्स कोरोना पॉजिटिव निकली। इसकी वजह से मॉडल्स ही नहीं, बल्कि कॉर्डिनेटर, डिजाइनर्स सब में ये डर बैठा हुआ है कि अगर शूट कर भी लिया तो क्या वो सेफ रहेगा या नहीं। पहले जहां 100 फीसदी शूट होते थेए वो अब 10 फीसदी तक आ गए हैं। इसके अलावा जो फ्रेशर्स मॉडल्स हैं, उनके लिए ज्यादा चुनौतियां हैं क्योंकि इस समय एक्सपीरियंस मॉडल्स को भी काम नहीं मिल पा रहा। गुलाबी शहर जयपुर नेशनल और इंटरनेशनल स्तर के फैशन इवेंट्स और फैशन शोज की चमक से सरावोर रहता था लेकिन इस साल कोरोना के चलते एक भी फैशन इवेंट्स नहीं होने से फैशन इंडस्ट्री की यह चमक फीकी हो गई है। वहीं इस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों में अब निराशा नजर आ रही है। फैशन इंडस्ट्री के लोग पूरी तरह से बेरोजगार हो गए है। काम नहीं मिलने के कारण आर्थिक स्थित पूरी तरह से बिगड़ गई है।

सारे इवेंट भी बंद
फैशन इंडस्ट्री और मॉडलिंग में मंच करने के लिए आयोजित होने वाली मिस राजस्थान और एलिट मिस राजस्थान सहित कई प्रतियोगिताएं भी स्थगित कर दी गई है। इनमें हजारों प्रतिभागी फैशन जगत में अपना भाग्य आजमाते थे।