October 23, 2020

कोरोना संक्रमितों में जिंक की कमी से मौत का खतरा 2 गुना अधिक

ऐसे लोग जो जिंक की कमी से जूझ रहे हैं उन्हें कोरोना का संक्रमण होता है तो मौत का खतरा दो गुना से अधिक है। यह दावा स्पेन के वैज्ञानिकों ने किया है। उनकी रिसर्च कहती है, कोरोना के जिन मरीजों में जिंक की कमी होती है उनमें सूजन के मामले बढ़ते हैं। यह मौत का खतरा बढ़ता है। रिसर्च करने वाले बार्सिलोना के टर्शियरी यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के रिसर्चर का कहना है, कोरोना के मरीजों में जिंक की कमी के असर को समझा गया है। 15 मार्च से 30 अप्रैल 2020 तक कोरोना के मरीजों पर रिसर्च की गई। रिसर्च में कोरोना के ऐसे मरीजों को शामिल किया गया है जिनकी हालत बेहद नाजुक थी। उनकी सेहत, लोकेशन से जुड़े आंकड़ों, पहले से हुई बीमारियों को रिकॉर्ड किया गया। रिसर्च के मुताबिक, कोरोना के जिन मरीजों में जिंक की मात्रा पर्याप्त या ज्यादा थी, उनमें इंटरल्युकिन-6 प्रोटीन की मात्रा कम थी। वहीं, जिनमें जिंक कम मिला उनमें इस प्रोटीन का स्तर अधिक था। यह प्रोटीन शरीर में सूजन और इम्यून सिस्टम के बेकाबू होने के लिए जिम्मेदार होता है। इम्यून सिस्टम बेकाबू होने पर यह उल्टा शरीर को नुकसान पहुंचाने लगता है, इसे साइटोकाइन स्टॉर्म कहते हैं। शरीर में प्लाज्मा जिंक का लेवल अगर 50 द्वष्द्द/स्रद्य से नीचे गिरता है तो मौत का खतरा 2.3 गुना तक बढ़ जाता है। शरीर में जिंक की मात्रा इससे अधिक ही होनी चाहिए। हर दिन 40 एमजी जिंक की जरूरत शरीर को होती है।

  • तरबूज के बीज और नट्स: इसमें जिंक और पोटैशियम पर्याप्त मात्रा में होता है। तरबूत के बीजों को सुखा लें और इसे पीसकर अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा रोजाना एक मुट्ठी ड्रायफ्रूट्स ले सकते हैं।
  • मछली: इसमें जिंक, प्रोटीन के अलावा भी कई पोषक तत्व अच्छी मात्रा में होते हैं। इसे हफ्ते में दो बार लिया जा सकता है। जिंक आपकी इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है।
  • अंडा : एक अंडे में 5 फीसदी तक जिंक होता है। एक्सपर्ट कहते हैं, इसे रोज अपनी डाइट में शामिल करें। यह इम्युनिटी बढ़ाने के साथ डैमेज हुई मांसपेशियों को रिपेयर भी करता है।
  • डेयरी प्रोडक्ट: अगर नॉनवेज खाना पसंद नहीं तो डाइट में डेयरी प्रोडक्ट की मात्रा बढ़ा सकते हैं। दूध, चीज, दही से भी जिंक की कमी पूरी की जा सकती है।
  • डार्क चॉकलेट- यह सिर्फ जिंक की कमी ही नहीं पूरी करती बल्कि पीरियड में होने वाले दर्द से भी राहत देती है। डार्क चॉकलेट मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाती है और मूड हैप्पी रखती है।