Sun. May 31st, 2020

कोविड- 19 अभ्यास में जल्दबाजी ओलिंपिक तैयारियों के लिए घातक

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय ओलिंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामलों के बावजूद खिलाडिय़ों के अभ्यास में वापसी को लेकर जल्दबाजी के प्रति आगाह किया है। मेहता ने कहा कि एक गलत कदम उनकी ओलिंपिक तैयारियों पर भारी पड़ सकता है। उन्होंने अपना यह विरोध तब जताया है, जबकि भारतीय खेल प्राधिकरण ने गुरुवार को खिलाडिय़ों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया जारी की, जिसे खेल मंत्रालय से मंजूरी प्राप्त है। खिलाडिय़ों को महामारी के बावजूद अभ्यास करते समय इनका पालन करना होगा। इस महामारी के कारण देश में अब तक 3500 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। मेहता ने से कहा, भगवान न करे अगर किसी खिलाड़ी का परीक्षण पॉजिटिव आता है तो इसके लिए कौन जिम्मेदार होगा। उस अभागे खिलाड़ी को भुगतना पड़ेगा और इससे उसकी ओलिंपिक तैयारियां प्रभावित हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि अभ्यास बहाल करने के लिए खिलाडिय़ों के साथ जबर्दस्ती नहीं की जानी चाहिए। मेहता ने कहा, यह मेरे निजी विचार हैं कि खिलाडिय़ों को अभी आउटडोर अभ्यास के लिए नहीं जाना चाहिए। मामले बढ़ रहे हैं और संभवत: जून में भी बढ़ते रहेंगे। अभी यह अपने चरम पर नहीं पहुंचा है। उन्होंने कहा, खिलाड़ी हमारे लिए बच्चों की तरह हैं और इसलिए यह मेरी उनको सलाह है। मेरे विचार किसी के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन इसका फैसला खिलाड़ी पर छोड़ देना चाहिए अभ्यास शुरू करना है या नहीं। गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के चौथे चरण के दिशा-निर्देशों में खेल परिसर और स्टेडियम खोलने की अनुमति दी थी, जिसके बाद साइ ने मानक संचालन प्रक्रिया जारी की थी, लेकिन इसको लेकर स्पष्टता नहीं है कि अभ्यास कब शुरू होगा।