October 28, 2020

क्लोन चेक तैयार कर खाटू श्याम मंदिर कमेटी के खाते से निकाले थे 20 लाख, आरोपी गिरफ्तार

16 बैंकों में है आरोपी इंजीनियर के खाते

खाटूश्यामजी, (निसं.)। कस्बे की श्री श्याम मंदिर कमेटी के खाते से चेक क्लोनिंग तैयार कर 20 लाख रुपए ठगी मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। मैकेनिक पॉलिटिकल फाइनल इयर का स्टूडेंट आरोपी को पुलिस ने कर्नाटक के शिवमोगा से गिरफ्तार कर लिया। थानाधिकारी पुजा पूनिया ने बताया कि श्री श्याम मंदिर कमेटी द्वारा आठ सितंबर को पुलिस थाने में क्लोनिंग चेक से 19 लाख 88 हजार पांच सौ रुपए निकाले जाने का मामला दर्ज करवाया था। मामले की जांच के लिए हैड कांस्टेबल लालचंद वर्मा के नेतृत्व में कांस्टेबल राजेन्द्र सैनी, प्रमोद सिंह शेखावत व रोहिताश्व चौधरी की टीम गठित की गई। आरोपी की तलाश में टीम ने गाजियाबाद में दबिश दी, लेकिन वहां से आरोपी की लोकेशन शिवमोगा में मिली। इस पर पुलिस टीम ने उसे कर्नाटक से गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया,कोर्ट ने आठ अक्टूबर तक के लिए आरोपी को पुलिस रिमांड पर सौंप दिया । पूनिया ने बताया कि आरोपी महाराष्ट्र के धारावी मुम्बई निवासी मोहम्मद शदाब अनवर शेख को साइबर एक्सपर्ट की मदद से गिरफ्तार किया है। आरोपी ने अपने गिरोह के साथ नासिक, कर्नाटक , लखनऊ, गुजरात में भी ऐसी वारदातों को अंजाम देना कबूल किया है। आरोपी शदाब अनवर शेख के अनेक स्थानों पर करीब 16 बैंक अंकाउट भी मिले है। आरोपी घटना को आंजाम देने के बाद अपने खाते में पैसा डालता और पैसा निकालने के बाद खाते को क्लोज कर देता था। आरोपियों ने आज तक की घटनाओं में सिर्फ हिंदू धार्मिक संगठनों को ही मुख्य निशाना बनाया है।

22 वर्षिय इंजिनियर स्टूडेंट और लाखों की ठगी: आरोपी मोहम्मद शदाब अनवर शेख मैकेनिक पोलिटिकल फाइनल एयर का स्टूडेंट है। 22 साल की उम्र में ही बड़ी उड़ान भरते हुए फर्जी दस्तावेजों से 16 बैंक खाते संचालित कर रखे हैं। हर बैंक से रूपयों की निकासी करने के बाद शातिर आरोपी उस खाते को क्लोज कर दिया जाता था। सभी खातें मुंबई के बैंकों में है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिय, एसवीसी कोऑपरेटिव बैंक , ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, कर्नाटका बैंक, पंजाब सिंध बैंक , आई सी आई सी आई बैंक सहित कई अन्य बैंकों में उसके खाते मिले है।

शातिर बदमाश की गैंग में 4 बदमाश: पुलिस पूछताछ में शातिर बदमाश के साथ चार बदमाशों का शामिल होना सामने आया है। इनमें कामरान, रघु, गांधी, विकी उर्फ अजमत शामिल है। मोहम्मद शदाब अनवर शेख के क्लास साथी कामरान होने के कारण बैंक में 20 हजार रुपए की नौकरी लगाने का झांसा देकर उसके पैन कार्ड, आधार कार्ड व्हाट्सएप पर मंगवाए लिए। उसने बताया कि अनेक बैंकों से पैसे आदान-प्रदान करने का कार्य करते हैं। इसके लिए उसने विकी उर्फ अजमत से मिलाया। उसने पैसे आने की बात बताकर अलग-अलग बैंकों में खाते खुलवाए तथा चेक बुकों पर हस्ताक्षर करवाकर व पैन कार्ड, मोबाइल सिम तथा सभी दस्तावेज अपने अधीन कर लिए।

ढाई महीने में 60 लाख की हेरा फेरी: आरोपी 27 मई 2020 में कामरान के संपर्क में आया, 13 अगस्त 2020 को कर्नाटक पुलिस के हत्थे चढ़ गया। इस दौरान आरोपी ने लाखों रुपए की हेरा फेरी कर डाली। इसमें विक्की उर्फ अजमत व रघु, मोहम्मद शदाब अनवर शेख ने मिलकर कई धार्मिक संस्थाओं से रूपए हड़प लिए। गिरफ्तार आरोपी बैंकों से रुपए निकलवाकर सम्भवत मुख्य आरोपी रघु को देता था। वहीं विक्की उर्फ अजमत दोनों पैसे निकासी का कार्य करते थे। इस दौरान करीब 64 लाख 20 हजार रुपये की ठगी को अंजाम दिया।

बैंक की भी संदेह के घेरे में : श्री श्याम मंदिर कमेटी का खाता भारतीय स्टेट बैंक की स्थानीय शाखा खाटूश्यामजी भी क्लोनिंग चेक के मामले में संदेह के घेरे में है। जब आरोपी सभी मुंबई से लेनदेन कर रहे तो बैंक खाते की जानकारी कैसे आरोपियों के पास पहुंची, मामले में बैक की संदिग्ध परिस्थितियों की जानकारी पुलिस जुटा रही है। इसके साथ ही 2 लाख के लेनदेन पर मोबाइल पर सत्यापन किया जाता है तो इस मामले में सत्यापन क्यों नहीं किया गया।