September 23, 2020

खाना, पानी, टिकट… सारी आय हो गई कम

लॉकडाउन में आईआरसीटीसी को बड़ा घाटा उठाना पड़ा

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 16 सितम्बर। कोरोना संकट की वजह से लगे लॉकडाउन से आईआरसीटीसी को बड़ा घाटा उठाना पड़ा है। अप्रैल-मई और जून तिमाही के दौरान कंपनी को 24.6 करोड़ का घाटा हुआ है जबकि 2019 में अप्रैल-जून तिमाही में कंपनी को 72.33 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। मार्च के बाद से रेल सेवाओं पर लगे प्रतिबंध धीरे धीरे हटाए जा रहे हैं, हालांकि अभी भी अधिकांश सामान्य यात्री सेवाओं पर रोक लगी हुई है। मार्च तिमाही के दौरान मालगाड़ी और विशेष ट्रेन को छोड़कर बाकी सभी यात्री सेवाएं बंद रही थीं। आईआरसीटीसी, इंडियन रेलवे की कैटरिंग, टूरिज्म और टिकटिंग का काम देखती है वहीं कंपनी अन्य टूरिज्म सेवाओं से भी जुड़ी है।
जून तिमाही के दौरान आईआरसीटीसी की ऑपरेशंस से आय 71 फीसदी घटकर 131.33 करोड़ रुपये रही है। पिछले साल की इसी अवधि में आईआरसीटीसी को 459 करोड़ रुपये की आय हुई थी। तिमाही के दौरान कंपनी के सभी सेग्मेंट में तेज नुकसान देखने को मिला है। हालांकि सबसे ज्यादा गिरावट टूरिज्म सेग्मेंट में दर्ज हुई। टूरिज्म सेग्मेंट की आय पिछले साल के 47.62 करोड़ रुपये से घटकर 2.95 करोड़ रुपये रह गई है।
कैटरिंग से आय करीब पिछले साल के मुकाबले 272 करोड़ रुपये से गिरकर 90 करोड़ रुपये रह गई है वहीं इंटरनेट के जरिए टिकट की बुकिंग 82 करोड़ रुपये से घटकर 35.22 करोड़ रुपये रह गई है।
रेल नीर से आय पिछले साल के मुकाबले 57 करोड़ रुपये से घटकर 3.25 करोड़ रुपये के स्तर पर आ गई हालांकि इस अवधि के दौरान कंपनी की अन्य आय में बढ़त दर्ज हुई है। अन्य आय पिछले साल के मुकाबले 17 करोड़ रुपये से बढ़कर 25 करोड़ रुपये पहुंच गई है।

तीन माह का लेखा जोखा

  • टूरिज्म सेग्मेंट की आय: 2.95 करोड़
  • कैटरिंग से आय: 90 करोड़
  • रेल नीर से आय: 3.25 करोड़