September 24, 2020

गांव की सरकार चुनने की तैयारियों में जुटी जिला निर्वाचन की टीम

361 ग्राम पंचायतों में मतदान के लिए तैयार किए 1876 पोलिंग बूथ

जयपुर, 14 सितम्बर। जैसे-जैसे पंच-सरपंच के मतदान की तारीख नजदीक आ रही है। वैसे-वैसे जिला निर्वाचन ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। मतदान दलों को ईवीएम का प्रशिक्षण सहित अन्य सुरक्षा मापदंड की व्यवस्थाएं की जा रही है। कोविड-19 के चलते चुनाव को करवाने के लिए प्रशासन की ओर से मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई है। जयपुर जिले की 14 पंचायत समितियों की 361 ग्राम पंचायतों में मतदान केंद्रों की संख्या 1496 से बढ़ाकर 1876 कर दी है। 380 मतदान केंद्र इसलिए बढ़ाए गए है कि अब किसी भी मतदान केंद्र पर 900 से ज्यादा मतदाता नहीं होंगे, जबकि पूर्व में 1100 मतदाता पर एक बूथ था। गांवों में चुनावी सरगर्मियां तेज हो गई हैं। एक-एक वोट पर प्रत्याशियों की निगाहें हैं, तो दूसरी तरफ प्रशासन के सामने फ्री एंड फेयर इलेक्शन करवाने में पूरी तरह से जुटा हुआ है। इस बार कोरोना के चलते कई बदलाव किए हैं। मतदान केंद्रों पर ज्यादा भीड़ ना हो इसके लिए एक मतदान केंद्र पर मतदाताओं की संख्या घटाकर दूसरा मतदान केंद्र स्थापित कर दिया हैं, जिससे सोशल डिस्टेसिंग बनी रहे और ज्यादा भीड़ एक मतदान केंद्र पर ना उमड़े। जयपुर जिले में शेष बची 14 पंचायत समितियों के 361 ग्राम पंचायतों में चार चरणों में चुनाव होगा। जहां पहले मतदान केंद्रों की संख्या इन ग्राम पंचायतों में 1 हजार 496 थी, लेकिन इसे कोविड-19 के कारण बढ़ाकर 1 हजार 876 कर दिया हैं। यानि की 380 मतदान केंद्र बढ़ाए गए हैं।

मतदान समय एक घंटे बढ़ाया
उपजिला निर्वाचन अधिकारी की माने तो राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से घोषित चुनाव कार्यक्रम में कोविड-19 का भी ध्यान रखा है। इसके साथ ही मतदान समय में एक घंटे की बढ़ोतरी करते हुए इसे सुबह साढ़े सात बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक किया है। इसमें मतदाता एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने के नियम का पालना करते हुए मतदान कर सकेंगे। मतदाताओं की जानकारी निर्वाचन आयोग द्वारा इस बार मतदाताओं को उनके नाम क्रमांक बूथ की जानकारी एसएमएस के माध्यम से मोबाइल पर भेजी जाएगी। इससे मतदाताओं को परेशानी नहीं होगी।