December 1, 2020

ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क तंत्र के पूर्ण विकास की दिशा में काम करें: यादव

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 4 नवम्बर। सार्वजनिक निर्माण विभाग के प्रमुख शासन सचिव राजेश यादव ने कहा कि प्रदेश में सड़क विकास के कार्यों को समय पर पूरा करने के साथ-साथ सड़क निर्माण में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने प्रदेश की सभी गुणवत्ता जांच प्रयोगशालाओं के लिए एनएबीएल जैसी संस्थाओं से एक्रिडिटेशन लेने की प्रक्रिया शुरू करने के भी निर्देश दिए।
यादव मंगलवार को सार्वजनिक निर्माण विभाग मुख्यालय ‘निर्माण भवन’ में विभाग के मुख्य अभियंताओं की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजमार्गों पर सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए प्रोजेक्ट की डिजाइन तैयार करते समय सुरक्षा मापदंडों का पूरा ध्यान रखा जाए। यादव ने कहा कि प्रदेश में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) में उल्लेखनीय कार्य हुआ है। इसी कारण राज्य को इस योजना में केन्द्र से प्रोत्साहन राशि भी मिलती आ रही है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क तंत्र को पूर्ण रूप से विकसित करने की दिशा में काम हो, ताकि इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास में मदद मिल सके। यादव ने कहा कि बजट घोषणा के अनुसार सड़क से बिना जुड़े गांवों को डामर सड़क से जोडऩे के लिए 500 से अधिक आबादी वाले राजस्व गांवों का सर्वे कराया जाए। साथ ही डिस्ट्रिक्ट मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट जैसी योजनाओं में सड़क विकास की सम्भावनाओं को देखते हुए शेष बचे गांवों को सड़कों से जोडऩे की कार्ययोजना बनाई जाए। यादव ने बैठक में विभागीय योजनाओं का प्रजेंटेशन देखा और योजनावार समीक्षा की।
मुख्य अभियंता एवं अतिरिक्त सचिव संजीव माथुर ने रोड, सुबोध मलिक ने पीएमजीएसवाई तथा डीआर मेघवाल ने राष्ट्रीय राजमार्गों की परियोजनाओं पर प्रजेंटेशन दिया। इस अवसर पर पीडब्ल्यूडी के शासन सचिव चिन्न हरी मीणा एवं विभिन्न अधीक्षण अभियंता भी उपस्थित थे।