Tue. Jul 16th, 2019

चाकसू नगर पालिका में फिर पशु क्रूरता की हदे पार

परिसर में तीन दिन से भूखे प्यासे पिंजरे में बंद पडे सूअर

चाकसू (निसं.)। नगर पालिका चाकसू कार्यालय परिसर में पिछले तीन दिन से एक पिंजरे में लगभग आधा दर्जन सुअर भूखे-प्यासे बंद पड़े है। पालिका में इस हालत का कोई संतोष जनक जवाब देने वाला नहीं मिला। पालिका अधिशासी अधिकारी से इस संबंध में बात करने का प्रयास किया, लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला। पकड़े गए लोहे के पिंजरे बंद सुअरों की हालत भूख प्यास के चलते धीरे-धीरे खराब होती जा रही है। बड़े सुअरों के तो पैर तक बंधे पड़े है, जिससे हिल डुल भी नहीं सकते। पशु क्रूरता का इससे बड़ा कोई उदाहरण चाकसू में नहीं मिलेगा। कर्मचारियों या अधिकारियों को इन निरीह जानवरों को इस हालत मे देखकर दिल भी नहीं पसीजा यह कैसी मानवता है? ताज्जुब यह हो रहा है कि कस्बे में तीन चार हरिजन बस्तियों हैं लगभग सभी लोग सुअर पालते है, लेकिन इन परिवारों में से कोई भी परिवार इनको कैद से मुक्त करवाने अभी तक नहीं आया।

अधिशासी अधिकारी के आदेश पर कार्रवाई
नगर पालिका सफाई निरीक्षक तरुण कुमार से बात की तो उन्होंने अवकास पर होने की बात कहीं। वहीं, नगर पालिका के जमादार जीतु ने बताया कि नगर पालिका अधिशासी अधिकारी ब्रजेश गोयल के आदेश से ही इन आवारा सुअरों को पकड़ा गया था। इनका अब क्या करना है, कोई निर्देश नहीं मिले है। जब इस मामले में अधिशासी अधिकारी ब्रजेश गोयल से इस मामले में ऑफिस जाकर बात करना चाही तो वो ऑफिस से नदारद मिले। इसके बाद उनसे फोन पर बात करना चाहा लड़के ने ये कहते हुए फोन काट दिया की पापा गाड़ी चला रहे हैं बाद में बात करना।