December 3, 2020

चौथे दिन भी रेलवे ट्रैक पर कब्जा जारी

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 4 नवम्बर। गुर्जर आरक्षण आंदोलन की आग अब धीरे-धीरे प्रदेश के अन्य इलाकों में भी फैलने लगी है। विभिन्न शहरों में कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला गुट के जुड़े गुर्जर समाज के लोगों ने भी प्रदर्शन करने शुरू कर दिये हैं। आरक्षण से जुड़ी मांगों को लेकर प्रदर्शकारियों का दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर भरतपुर जिले के बयाना स्थित पीलूपुरा में लगातार चौथे दिन बुधवार को भी धरना प्रदर्शन जारी है। हिण्डौन-बयाना-भरतपुर रोड मार्ग को भी जाम कर दिये जाने के कारण वहां यातायात पूरी तरह बंद है। वहीं मुंबई-दिल्ली रेल मार्ग पर प्रदर्शनकारियों द्वारा पीलूपुरा में पटरियां उखाडऩे और उनके वहां डटे होने के कारण रेल यातायात भी पूरी तरह ठप है। गुर्जर प्रदर्शनकारी पटरी पर घास का बिस्तर बनाकर वहां डटे हुए हैं। सोमवार को देर शाम को गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला वहां गये थे लेकिन उनकी तबीयत नासाज होने के कारण वे वहां से वापस हिण्डौन स्थित अपने आवास पर लौट आए। बैंसला के पुत्र विजय बैंसला प्रदर्शनकारियों के साथ पटरी पर टिके हुए हैं।

आसपास के गांवों से खाने व चाय की व्यवस्था
प्रदर्शनकारियों के लिए आसपास के गांवों से खाने-पीने व चाय की व्यवस्था की जा रही है। प्रदर्शनकारी पटरी व आसपास टेंट लगा कर धरना स्थल पर टिके हुए हैं। अब वहां चाय व खाने के लिए भी स्टॉल सजाई जा चुकी है वहीं दूसरी तरफ बयाना के नेहरा क्षेत्र के गुर्जर समाज के 80 गांवों की सोमवार को पंचायत आयोजित की गई थी। इसमें सरकार द्वारा 14 मांगों पर सहमति बनने को सही ठहराते हुए आंदोलन खत्म करने का निर्णय लिया गया। इसको लेकर नेहरा क्षेत्र के गुर्जर समाज का 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को कर्नल बैंसला पास मिलने भी गया। प्रतिनिधिमंडल ने पटरी और सड़क पर लगे जाम को हटाने के लिए बैंसला गुट से गुजारिश की।

इंटरनेट सेवा बंद रखने की अवधि बढ़ाई
पुलिस प्रशासन लगातार पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है। आंदोलन स्थल के आसपास सुरक्षा के लिए बड़ी संख्या में आरएसी, आरपीएफ, बार्डर होमगार्ड और पुलिस के जवान तैनात हैं। करौली व भरतपुर जिले में 29 अक्टूबर से बंद इंटरनेट की अवधि को बढ़ा दी गई है। हालांकि ब्रॉडबैंड और लीज चालू सेवा चालू है।