Wed. Sep 18th, 2019

जनसंख्या नियंत्रण में बेहतर भूमिका निभा सकती हैं आशा सहयोगिनियां

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 7 सितम्बर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि समुदाय स्तर पर आशा सहयोगिनी विभिन्न चिकित्सा योजनाओं को आमजन तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। उन्होंने कहा कि यूं तो आशाएं अपने क्षेत्र में बेहतरीन काम कर रही हैं, लेकिन यदि परिवार नियोजन के मामले में आमजन को और अधिक जागरूक करें तो जनसंख्या नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं। डॉ. शर्मा शुक्रवार को स्वास्थ्य भवन में आयोजित आशा सहयोगिनियों की ब्लॉक स्तर से राज्य स्तर की प्रथम त्रैमासिक वीडियो कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रजनन दर वर्तमान में 2.6 है, जो कि चिंतनीय विषय है। आशा सहयोगिनी के साथ आमजन को इस आंकड़े को 2.1 पर लाने का प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि चिकित्सा विभाग और आशाओं के सहयोग से पिछले सालों में मातृ मृत्यु दर और शिशु मृत्यु दर में खासी कमी देखने को मिली है। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि समुदाय स्तर पर स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न योजनाओं के माध्यम से आशा सहयोगिनी स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच उपलब्धता सुनिश्चित करने का काम करती हैं। गर्भवती महिला, नवजात शिशु के साथ गांव में निवास करने वाले प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य एवं पोषण सेवाएं उपलब्ध कराने काम भी इनके द्वारा किया जाता है। उन्होंने आशा संवाद के माध्यम से बाड़मेर, अजमेर, जैसलमेर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ सहित कई जिलों की आशाओं से टीकाकरण, परिवार नियोजन, संस्थागत प्रसव, चैकअप, मौसमी बीमारियों के दौरान सर्वे आदि कई विषयों पर बातचीत की। उन्होंने अधिकारियों को ज्यादा से ज्यादा आशाओं का चयन कर उन्हें प्रशिक्षित करने पर भी जोर दिया। इस दौरान निदेशक जन स्वास्थ्य डॉ. वीके माथुर सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।