December 3, 2020

जयपुर नगर निगम ग्रेटर के 150 वार्डों में 58.31 फीसदी रहा मतदान

जयपुर, 2 नवम्बर। जयपुर नगर निगम हैरिटेज एवं ग्रेटर के आम चुनाव 2020 के अन्तर्गत द्वितीय चरण में रविवार को जयपुर नगर निगम ग्रेटर के 150 वार्डों में मतदान शांतिपूर्ण, सुगम एवं व्यवस्थित तरीके से पूर्ण हुआ। कुल 12 लाख 29 हजार 201 मतदाताओं में से कुल 7 लाख 16 हजार 787 मतदाताओं ने अर्थात 58.31 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। पूरी प्रक्रिया के दौरान कोविड गाइडलाइन की पालना पर विशेष जोर रहा। जिला निर्वाचन अधिकारी (म्यूनिसिपल) एवं जिला कलेक्टर अन्तर सिंह नेहरा ने बताया कि रविवार को मतदान केन्द्रों पर सेनेटाइजेशन, मास्क, उचित दूरी एवं अन्य कोविड प्रोटोकॉल की पालना के साथ ही मतदान सम्पन्न हुआ। इस बार मतदान केन्द्रों की संख्या होने के कारण कहीं भी भीड़-भाड़ एवं अधिक लम्बी लाइनें नहीं लगीं जिससे मतदान बहुत ही सुचारू रूप से सम्पन्न हुआ।
उन्होंने बताया कि जयपुर ग्रेटर के 150 वार्डों में 1 लाख 93 हजार 776 अर्थात 15.76 प्रतिशत मतदाता प्रात: 10 बजे तक अपने मताधिकार का उपयोग कर चुके थे। दोपहर 1 बजे तक कुल 4 लाख 20 हजार 790 अर्थात 34.23 प्रतिशत मतदाता अपना मत दे चुके थे एवं अपराह्न 3 बजे तक यह प्रतिशत 45.83 प्रतिशत हो चुका था अर्थात 5 लाख 63 हजार 368 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर चुके थे। इसी प्रकार शाम 5:30 बजे तक 7 लाख 12 हजार 635 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया था। यह मतदान प्रतिशत 58.31 रहा। गुरुवार को जयपुर नगर निगम ग्रेटर के लिए कुल 7 लाख 16 हजार 787 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया था।

48 कोविड पॉजिटिव मतदाताओं ने किया मतदान
जिला निर्वाचन अधिकारी नेहरा ने बताया कि जयपुर नगर निगम ग्रेटर के लिए सदस्यों के निर्वाचन हेतु कुल 48 कोविड पॉजिटिव मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। इसके लिए राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देश के अनुसार उनसे पहले ही सम्पर्क कर उनकी मतदान की इच्छा पर प्रोटोकॉल के अनुसार सारा प्रबन्ध किया गया। इन मतदाताओं से मतदान सबसे अन्त में करवाया गया।

राजधानी को मिलेगी दो महिला मेयर
मंगलवार को नतीजे आने के बाद 10 नवंबर को दोनों निगमों के मेयर चुने जाएंगे। 11 नवंबर को डिप्टी मेयर का फैसला होगा। पहली बार राजधानी में दो ओबीसी महिला मेयर चुनी जाएंगी। कोरोना के चलते दोनों निगमों में पिछली बार के मुकाबले गिरे मतदान प्रतिशत ने दोनों पार्टियों के समीकरण बिगाड़ रखे है। हालांकि कम वोटिंग प्रतिशत को भाजपा-कांग्रेस अपने पक्ष में मान रही है। हैरिटेज 100 वार्ड में कांग्रेस 55-60 वार्ड जीतने की दावा कर रही है लेकिन यहां कम से कम 10 से 12 वार्ड में निर्दलीय उम्मीदवार भाजपा-कांग्रेस पर भारी पड़ेंगे। राजधानी में कांग्रेस का बोर्ड बनाने की अहम जिम्मेदारी मुख्य सचेतक महेश जोशी और मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास पर होगी, वहीं भाजपा की कमान प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया, ग्रेटर निगम चुनाव प्रभारी मदन दिलावर और हेरिटेज प्रभारी वासुदेव देवनानी संभालेंगे। इसके अलावा विधायक कालीचरण सराफ, अशोक लाहोटी, नरपत सिंह राजवी भी जिम्मेदारी होगी। ग्रेटर निगम चुनाव के प्रभारी भाजपा विधायक मदन दिलावर ने दावा किया है ग्रेटर में भाजपा 80 से 100 वार्ड जीतेगी, वहीं हेरिटेज में भी भाजपा का ही बनेगा। भाजपा किसी की बाड़ेबंदी नहीं कर रही है, भाजपा के निर्वाचित पार्षदों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। केबिनेट मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने बताया कि भाजपा की रणनीति निगम चुनाव में फैल हो गई, उनका विजन डॉक्यूमेंट से जनता समझ गई कि इनके दावे में दम नहीं। कांग्रेस ने विकास कार्यों दम पर चुनाव लड़ा। ग्रेटर निगम 150 में से 100 और हैरिटेज में 100 में से 60 वार्ड कांग्रेस जीतकर दोनों निगमों में बोर्ड बनाएगी।