October 23, 2020

जितना खिंचेगा फीडबैक, उतना लंबा होगा इंतजार

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 8 अक्टूबर। प्रदेश कांग्रेस संगठन के पदों पर नियुक्तियों की उम्मीद लगाए बैठे नेताओं को अभी और इंतजार करना होगा। कांग्रेस में फिलहाल नई कार्यकारिणी के गठन के आसर कम हैं। ऐसे में प्रदेश, जिला और ब्लॉक स्तर पर कार्यकारिणी के गठन में समय लगना तय माना जा रहा है। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन पहले सभी जिलों के नेताओं के साथ फीडबैक बैठकें लेंगे। इन फीडबैक बैठकों के बाद ही प्रदेश से लेकर जिला और ब्लॉक कार्यकारिणी के बारे में फैसला होगा। अजय माकन ने अभी तक जयपुर और अजमेर संभाग के 11 जिलों के नेताओं के साथ ही फीडबैक बैठकें की हैं। अभी 5 संभागों के 22 जिलों के नेताओं से फीडबैक बैठकें करना बाकी है। कांग्रेस के रणनीतिकारों का मानना है कि पहले सभी जिलों के नेताओं के मन की बात सुनी जाए और फिर उसके बाद ही टॉप टू बॉटम नई टीम बनाई जाए। अजय माकन का फीडबैक कार्यक्रम अभी तय नहीं हुआ है। ऐसे में मामला लंबा खिंचेगा।

माकन 11 जिलों का फीडबैक ले चुके हैं
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा से जब कार्यकारिणी के गठन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अजय माकन 11 जिलों का फीडबैक ले चुके हैं। बचे हुए जिलों का फीडबैक वे अस्वस्थ्य होने की वजह से नहीं ले पाए थे। अब अजय माकन स्वस्थ हैं. वे जल्द ही बचे हुए जिलों का फीडबैक लेंगे। उसके बाद कार्यकारिणी पर फैसला होगा। सचिन पायलट की बगावत के बाद 15 जुलाई को कांग्रेस की टॉप टू बॉटम पूरी कार्यकारिणी भंग कर दी गई थी। तब से पार्टी में किसी पदाधिकारी की निुयक्ति नहीं हुई है। पार्टी में प्रदेश कार्यकारिणी, जिलाध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष जिला, ब्लॉक कार्यकारिणी, विभाग और प्रकोष्ठों में करीब 15000 से ज्यादा नेताओं की निुयक्तियां होनी हैं लेकिन फीडबैक के पेच के कारण फिलहाल सब अटक गया है।

6 नगर निगमों के चुनाव होने हैं
इस बीच प्रदेश में 6 नगर निगमों के चुनाव भी होने हैं। हाईकोर्ट ने 31 अक्टूबर तक चुनाव करवाने को कहा है। अगर सुप्रीम कोर्ट से सरकार को राहत नहीं मिली तो नगर निगम चुनाव भी बिना कार्यकारिणी के ही होंगे। फिलहाल कांग्रेस में कार्यकारिणी के गठन को लेकर कोई समय सीमा तय नहीं है। ऐसे में अब लंबा वक्त लगना तय माना जा रहा है।