October 25, 2020

जेडीए एकमुश्त 10 साल की लीज जमा करवाने पर देगा फ्री होल्ड पट्टा

जयपुर, 23 सितंबर। जयपुर जेडीए अपने क्षेत्राधिकार में भूखण्डों के फ्री होल्ड पट्टे जारी करेगा। यानी एक बार एकमुश्त लीज राशि जमा करवाने पर हमेशा के लिए भूखण्ड पर अधिपत्य पट्टाधारी का होगा। जेडीए आयुक्त गौरव गोयल की अध्यक्षता में कल हुई समीक्षा बैठक में इस पर निर्णय किया। बैठक में लिए निर्णय के मुताबिक भूखण्डधारी को एकमुश्त 10 साल की लीज जमा करवाने पर फ्री होल्ड का पट्टा जारी किया जाएगा। इतना ही नहीं यदि किसी भूखण्डधारी ने पूर्व में 8 साल की एकमुश्त लीज जमा करवाकर वन टाइम लीज (99 साल का) सर्टिफिकेट ले रखा है तो ऐसे प्रकरण में आवेदक को 2 साल की अतिरिक्त लीज राशि जमा करवानी पड़ेगी।

बजट घोषणाओं को किया जाएगा समय पर पूरा
बैठक में जेडीसी ने मुख्यमंत्री बजट घोषणाओं में जेडीए क्षेत्राधिकार में जहां-जहां नई ग्राम पंचायत बनाई है, उनमें ग्राम पंचायतों एवं राजीव गांधी सेवा केंद्रों के लिए संबंधित अधिकारियों को भूमि आवंटित करने के निर्देश दिए। उन्होंने नव सृजित उप तहसील बगरू के भवन निर्माण के लिए भूमि आवंटन किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को विभिन्न इलाकों में पानी की टंकी निर्माण के लिए भूमि आवंटन करने के लिए कहा।

आठ बीघा सरकारी भूमि अतिक्रमण मुक्त
जयपुर, 23 सितंबर। जयपुर जेडीए की प्रवर्तन टीम ने कल कार्रवाई करते हुए ग्राम ग्वार ब्राह्मणान, गोविन्दपुरा पंचायत फाटक के पास में करीब आठ बीघा सरकारी भूमि को अतिक्रमण मुक्त करवाया। साथ ही मुख्य अजमेर रोड पर डीसीएम के पास सड़क सीमा से एवं लाल बहादुर नगर में जीरो सैटबैक में किए जा रहे निर्माण को हटवाया। मुख्य नियंत्रक प्रवर्तन रघुवीर सैनी ने बताया कि जोन 14 क्षेत्र के ग्राम ग्वार ब्राह्मणान् गोविन्दपुरा पंचायत फाटक के पास खसरा नं. 623, 624 गैर मुमकिन तलाई की करीब 8 बीघा सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर सीमेन्ट व पत्थर के पिल्लर लगाकर की तारबन्दी, बनाई मिट्टी की डोल, लकड़ी की छडिय़ां, पशुओं के बाड़ा बनाकर व खेती कर जमीन पर कब्जा कर लिया था, जिसे जेसीबी मशीन से हटवाकर जमीन को खाली करवाया। इसके अलावा टीम ने जोन 4 क्षेत्र में लाल बहादुर नगर में प्लॉट नं. ई-37, के मालिक द्वारा बिना जेडीए की अनुमति के अवैध रूप से बेसमेन्ट बनाने के लिए जीरो सैटबैक पर पिल्लरों का निर्माण किया जा रहा था, जिसे जेसीबी मशीन से हटवाया गया।