September 27, 2020

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर मंदिरों में सजी जल विहार झांकी

जयपुर, 6 जून। ज्येष्ठ पूर्णिमा को मंदिरों में ठाकुरजी की विशेष झांकियांं सजाई गई। धवल पोशाक धारण कराकर सफेद पुष्पों से मनोरम श्रृंगार किया गया। आराध्य गोविंददेवजी मंदिर में ज्येष्ठ पूर्णिमा पर जल उत्सव झांकी सजाई गई। गर्भ गृह में रियासतकालीन चांदी के फव्वारों से सुंगधित जल की धारा प्रस्फुटित हुई जिससे ठाकुर राधा गोविंद ने ठंडक का आनंद लिया। धवल पोशाक और सफेद पुष्पों के श्रृंगार के बीच सजी मनमोहक झांकी के श्रद्धालुओं ने ऑनलाइन दर्शन किए। शुक संप्रदाय की प्रधान पीठ सरस निकुंज में राधा सरस बिहारी सरकार को शीतलता प्रदान करते हुए निज मंदिर के मंडप को पुष्पों से सजाया गया। गुलाब, केवड़ा के इत्र की सेवा के साथ मुखमंडल और चरणों पर चंदन लेपन करते हुए झांकी दर्शन कराए गए। महाराज ने ठाकुरजी के लाड़ लड़ाते हुए ऋ तु फलों का भोग अर्पण किए। ठाकुरजी के फूल बंगले के पदों का गायन किया गया। शाम को निज मंदिर में फव्वारे चलाकर शीतलता की गई। प्रवीण बड़े भैया ने जुगल वर बैठे फूल तिवारी फूल मंडली सरस सवारी…, किया फूल श्रृंगार जुगल ने….जैसे पदों का गायन किया। इनके अलावा पुरानी बस्ती स्थित गोपीनाथजी, चौड़ा रास्ता के राधा दामोदरजी, रामगंज बाजार के लाड़लीजी मंदिर में भी ज्येष्ठ पूर्णिमा की झांकी सजी।