September 24, 2020

टूटा अंगना… बिफरी कंगना

मैं जीऊं या मर जाऊं, आपको बेनकाब करूंगी…

कंगना रनौत के ट्वीट और बयान
उद्धव ठाकरे और करण जौहर गैंग आओ। तुमने मेरे काम की जगह तोड़ दी। अब मेरा घर तोड़ो, फिर मेरा चेहरा और मेरा शरीर भी तोड़ दो। मैं चाहती हूं कि दुनिया तुम लोगों का असली चेहरा देखे। चाहे मैं जीऊं या मर जाऊं, अब मैं आपको बेनकाब करूंगी। मुंबई स्थित घर पहुंचने के बाद कंगना रनोट ने वीडियो जारी कर कहा कि उद्धव ठाकरे, तुझे क्या लगता है कि तूने फिल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़ के मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है। आज मेरा घर टूटा है,कल तेरा घमंड टूटेगा। ये वक्त का पहिया है याद रखना। हमेशा एक जैसा नहीं रहता। मुझे लगता है तुमने मुझ पर बहुत बड़ा अहसान किया है क्योंकि मुझे पता तो था कि कश्मीरी पंडितों पे क्या बीती है। आज मैंने महसूस किया है। और आज मैं इस देश को वचन देती हूं कि मैं सिर्फ अयोध्या पर ही नहीं कश्मीर पर भी एक फिल्म बनाउंगी और अपने देशवासियों को जगाऊंगी क्योंकि मुझे पता था कि ये हमारे साथ होगा तो होगा, लेकिन मेरे साथ हुआ है। इसका कोई मतलब है। इसके कोई मायने हैं। और उद्धव ठाकरे, ये जो क्रूरता, ये जो आतंक है, अच्छा हुआ ये मेरे साथ हुआ क्योंकि इसके कुछ मायने हैं। जय हिन्द, जय महाराष्ट्र…।

मुंबई, 10 सितम्बर (एजेंसी)। अभिनेत्री कंगना रनोट और महाराष्ट्र सरकार – शिवसेना के बीच काफी दिनों जुबानी जंग चल रही थी। बीएमसी ने बुधवार को कंगना रनोट के बांद्रा स्थित ऑफिस को कथित रूप से अनधिकृत एक्सटेंशन के कारण तोड़ दिया। हालांकि कोर्ट ने कार्यवाही पर रोक लगा दी लेकिन इस पर कंगना तो महिला शक्ति बन कर गरजी ही साथ ही अलग-अलग राजनीतिक दलों ने भी प्रतिक्रिया दी है।

कहीं शिवसेना का डिमॉलिशन न हो जाए! – कांग्रेस नेता संजय निरूपम
कंगना का ऑफिस अवैध था या उसे डिमॉलिश करने का तरीका? क्योंकि हाई कोर्ट ने कार्रवाई को गलत माना और तत्काल रोक लगा दी। पूरा एक्शन प्रतिशोध से ओत-प्रोत था। लेकिन बदले की राजनीति की उम्र बहुत छोटी होती है। कहीं एक ऑफिस के चक्कर में शिवसेना का डिमॉलिशन न शुरू हो जाए!

मुंबई में कई अन्य अवैध निर्माण – राकांपा प्रमुख शरद पवार
बीएमसी की कार्रवाई ने अनावश्यक रूप से कंगना को बोलने का अवसर दिया है। मुंबई में कई अन्य अवैध निर्माण हैं। यह देखने की जरूरत है कि अधिकारियों ने यह निर्णय क्यों लिया। हर कोई जानता है कि मुंबई पुलिस सुरक्षा के लिए काम करती है। आपको इन लोगों को प्रचार नहीं देना चाहिए।

ये कायरता पूर्ण काम है, बदले की भावना से किया – पूर्व सीएम फडणवीस
किसी ने आपके (उद्धव ठाकरे) खिलाफ बात कही इसलिए अगर आप तब कार्रवाई करते हो तो ये कायरता है, बदले की भावना है। महाराष्ट्र में इस तरह की भावना का सम्मान नहीं हो सकता है। सरकार का यह कदम पूरी तरह से गलत ङावना से भरा है।

कंगना को डरने की जरूरत नहीं – केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले
बीएमसी अधिकारियों की कार्रवाई ठीक नहीं थी। कंगना को डरने की जरूरत नहीं है। संजय राउत ने जो शब्द प्रयोग किए थे वह सही नहीं था। आप कंगना का मुंह तोडऩे की बात कहते हैं। बेहतर होगा कि आप चीन और पाकिस्तान का मुंह तोड़ें। एक महिला के लिए ऐसे शब्दों का प्रयोग उचित नहीं है।

हमारा बोलना ठीक नहीं – शिवसेना नेता संजय राउत
कोर्ट पहुंच जाने के बाद कंगना विवाद पर बोलना ठीक नहीं है। कंगना ने मुंबई के लिए गलत कहा। बदले की भावना से काम नहीं हुआ। बाबरी तोडऩे वाले ही हम लोग हैं। इसकी टाइमिंग क्या है इसका जवाब बीएमसी देगी।