November 24, 2020

टेस्ट सीरीज में एग्रेशन कोहली पर ही अच्छा लगता है, रहाणे उन्हें कॉपी न करें: हरभजन

नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया में अजिंक्य रहाणे को विराट कोहली की तरह खेलने की जरूरत नहीं है और उन्हें अपने अंदाज में ही खेलना चाहिए। उन्होंने कहा कि टेस्ट सीरीज में कोहली की गैर मौजूदगी में रहाणे को कूल रहकर ही कप्तानी करनी चाहिए। उन पर एग्रेशन ठीक नहीं लगेगा। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली पहले टेस्ट के बाद पैटरनिटी लीव पर जाएंगे। उपकप्तान रहाणे उनकी गैर मौजूदगी में बाकी के 3 टेस्ट में टीम की कमान संभालेंगे। हरभजन ने एक चैनल से बात करते हुए कहा, रहाणे बहुत ही शांतिप्रिय खिलाड़ी हैं। वे अपना एक्सप्रेशन जाहिर नहीं करते। विराट कोहली की तुलना में वे बिलकुल ही अलग हैं। मैं यह कहना चाहूंगा कि उन्हें बिलकुल भी अपना गेम और व्यक्तित्व बदलने की जरूरत नहीं है। हो सकता है कोहली की कप्तानी देखकर वे भी ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए अपने अंदर एग्रेशन लाने की कोशिश करें। मुझे नहीं लगता ये जरूरी है। भज्जी ने कहा, रहाणे को जरूरत है कि वे नेचुरल रहें और टीम मेंबर्स से उनका बेस्ट प्रदर्शन करवाएं। हरभजन ने कहा कि टीम इंडिया बाकी के 3 टेस्ट में कोहली को जरूर मिस करेगी। उन्होंने कहा, ऑस्ट्रेलिया में कोहली का रिकॉर्ड अविश्वनीय है। हर बल्लेबाज चाहता है कि उनका रिकॉर्ड कोहली जैसा हो। कोहली का एक्सपीरियंस, एग्रेशन, टीम को फ्रंट से लीड करना ये सब कोहली की खासियत है। टीम इंडिया उन्हें जरूर मिस करेगी।

वन-डे मैचों से होगी दौरे की शुरुआत : ऑस्ट्रेलिया दौरे की शुरुआत वनडे सीरीज से होगी। पहले दो वन-डे मैच सिडनी में 27 और 29 नवंबर को खेले जाएंगे। फाइनल मुकाबला कैनबरा में 2 दिसंबर को खेला जाएगा। टी-20 सीरीज सिडनी और कैनबरा में ही खेली जाएगी। पहला टी-20 मैच 4 दिसंबर को कैनबरा में होगा। उसके बाद टीम सिडनी लौटेगी। वहां बचे हुए दो मैच खेले जाएंगे। दोनों टीमों के बीच पहला टेस्ट एडिलेड में डे-नाइट होगा। यह 17 से 21 दिसंबर तक खेला जाएगा। दूसरा टेस्ट मेलबर्न में 26 से 30 दिसंबर तक खेला जाएगा। तीसरा टेस्ट सिडनी में 7 से 11 जनवरी और चौथा टेस्ट मैच ब्रिस्बेन में 15-19 जनवरी तक होगा। विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया था। भारत यह कारनामा करने वाला एशिया का पहला देश है। बुमराह भारत के अहम गेंदबाज साबित हुए थे। उन्होंने 21 विकेट लिए थे।