Fri. Jul 3rd, 2020

ट्रंप को पसंद आ गया योगी मॉडल

नई दिल्ली, 29 जून (एजेंसी)। अमेरिका में योगी मॉडल चर्चा में है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को भी योगी मॉडल पसंद है। यूपी के योगी मॉडल की गूंज लखनऊ से 12,346 किलोमीटर दूर अमेरिका के व्हाइट हाउस में सुनाई दे रही है। पिछले साल दिसंबर, 2019 में नागरिकता कानून के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन के नाम पर दंगाइयों ने हिंसा, आगजनी और तोडफ़ोड़ की। हिंसा उत्तर प्रदेश में भी तोडफ़ोड़ हुई थी और जगह-जगह आग लगाकर गाडिय़ों, पुलिस चौकियों और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था लेकिन ऐसी घटनाओं के खिलाफ उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से एक नई शुरुआत की थी। दंगाइयों को सबक सिखाने का पूरा इंतजाम किया गया. यूपी सरकार ने 100 से ज्यादा जगहों पर पोस्टर्स लगाए थे और इन पोस्टर्स पर 57 दंगाइयों के नाम, उनका पता और उनसे वसूली जाने वाली रकम लिखी गई थी। यूपी के उस योगी मॉडल की गूंज लखनऊ से 12,346 किलोमीटर दूर अमेरिका के व्हाइट हाउस में सुनाई दे रही है। व्हाइट हाउस के पास लेफायेट्टे स्क्वायर पर हुए दंगें के 15 आरोपियों की तस्वीरें पोस्टर में लगाई गई हैं। इन पर व्हाइट हाउस के पास लगी पूर्व राष्ट्रपति एंड्र्यू जैक्सन की प्रतिमा को गिराने की कोशिश करने का आरोप है।

दंगों की वसूली का योगी मॉडल
यूपी में हिंसक प्रदर्शन में दंगाइयों को पकडऩे का ब्लू प्रिंट तैयार हुआ। फिर वीडियो फुटेज से दंगाइयों की पहचान की गई। चौराहे पर दंगाइयों से वसूली के पोस्टर लगे। दंगाईयों को वसूली का नोटिस भेजे गए। दंगाईयों को पकडऩे के लिये पुलिस की रेड हुई। हांलाकि बाद में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी सरकार ने हिंसा के आरोपियों के पोस्टर लगाने के आदेश पर रोक लगा दी थी। आगरा में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की मुलाकात भी हुई थी, जब वो ताजमहल देखने आगरा आए थे। ये पोस्टर ट्रंप ने ट्वीट करते हुए कहा कि कई लोग हिरासत में लिए गए हैं, कई लोगों की तलाश जारी है जिन पर लेफायेट्टे स्क्वायर में सार्वजनिक संपत्ति तोडऩे का आरोप है। इसमें 10 साल की जेल की सजा का प्रावधान है।