November 28, 2020

डायजेशन पावर बढ़ाने में है रामबाण ‘गुड़’

गुड़ का सेवन करने के कई चमत्कारिक फायदे होते हैं। गुड़ के फायदे एक या दो नहीं बल्कि कई हैं। अगर गिनने बैठने तो गुड़ के स्वास्थ्य लाभों की लंबी फहरिस्त है। वैसे तो गुड़ का सेवन हमेशा फायदेमंद माना जाता है, लेकिन सर्दियों में गुड़ खाने के फायदे कमाल के होते हैं। गुड़ सर्दियों में कई जरूरतों को पूरा करने के लिए जाना जाता है। सर्दियों में गुड़ न सिर्फ खांसी-जुकाम से राहत दिला सकता है बल्कि यह शरीर की इम्यूनिटी को भी मजबूत कर सकता है। इसके साथ ही बेहतर पाचन के लिए गुड़ किसी रामबाण से कम नहीं है। सेहत के लिए गुड़ बहुत गुणकारी होता है। सर्दियों में सबसे ज्यादा परेशानी स्किन को हेल्दी बनाए रखने की होती है।
ऐसे में गुड़ का इस्तेमाल त्वचा को चमकाने और हेल्दी बनाए रखने में भी किया जा सकता है। गुड़ में विटामिन ए और बी के साथ सुक्रोज, ग्लूकोज, आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, पोटेशियम, जस्ता, मैग्नेशियम जैसे तत्व पाए जाते हैं। गुड़ में कई तरह के जरूरी मिनरल्स और विटामिन होते है। यह स्किन को ग्लोइंग बनाने का काम करता है। सर्दियों में गुड़ का सेवन गुनगुने पानी के साथ या चाय की चुस्कियों के साथ लिया जा सकता है। गुड़ एक मीठा ठोस खाद्य पदार्थ है जो ईख, ताड़ आदि के रस को उबालकर कर सुखाने के बाद प्राप्त होता है। इसका रंग हल्के पीले से लेकर गाढ़े भूरे तक हो सकता है। भूरा रंग कभी-कभी काले रंग का भी आभास देता है। यह खाने में मीठा होता है। प्राकृतिक पदार्थों में सबसे अधिक मीठा कहा जा सकता है। अन्य वस्तुओं की मिठास की तुलना गुड़ से की जाती हैं। साधारणत: यह सूखा, ठोस पदार्थ होता है, पर वर्षा ऋतु जब हवा में नमी अधिक रहती है तब पानी को अवशोषित कर अर्धतरल सा हो जाता है। यह पानी में अत्यधिक विलेय होता है और इसमें उपस्थित अपद्रव्य, जैसे कोयले, पत्ते, ईख के छोटे टुकड़े आदि, सरलता से अलग किए जा सकते हैं। अपद्रव्यों में कभी कभी मिट्टी का भी अंश रहता है, जिसके सूक्ष्म कणों को पूर्णत: अलग करना तो कठिन होता हैं किंतु बड़े बड़े कण विलयन में नीचे बैठ जाते हैं तथा अलग किए जा सकते हैं। गरम करने पर यह पहले पिघलने सा लगता है और अंत में जलने के पूर्व अत्यधिक भूरा काला सा हो जाता है।

सर्दियों में गुड़ खाने के कमाल

  • काली मिर्च और अदरक के साथ खाएं गुड़
    गुड़ में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं। सर्दी जुकाम से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। काली मिर्च और अदरक के साथ गुड़ खाने से सर्दी-जुकाम में आराम मिल सकता है। सर्दियों में मौसम बदलने से अक्सर लोग बीमार होते हैं। ऐसे में इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग करने के लिए भी गुण लाभकारी माना जाता है। गुड़ के साथ अदरक को गर्म करके खाने से गले की खराश से राहत मिल सकती है.
  • एसिडिटी के लिए भी कारगर
    गुड़ का सेवन पेट की कई समस्याओं से राहत दिला सकता है। गुड़ का गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से एसिडिटी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। वहीं अगर गुड़, सेंधा नमक और काला नमक मिलाकर खाते हैं तो खट्टी डकारों से भी निजात मिल सकती है। रोजाना सुबह खाली पेट गुड़ वाला पानी भी फायदेमंद होता है.
  • खून की कमी को करेगा दूर
    गुड़ में आयरन काफी मात्रा में पाया जाता है। यह एनिमिया की समस्या से निपटने में मदद कर सकता है। अगर आपका हिमोग्लोबिन कम है, तो रोजाना गुड़ खाने से आपको लाभ मिल सकता है. गुड़ खाने से शरीर में लाल रक्त़ कोशिकाओं को बढ़ाने में भी मदद मिल सकती है.
  • ब्लड प्रेशर को रखेगा नियंत्रित
    सर्दियों में ब्लड प्रेशर की समस्या ज्यादा परेशान करती है. ऐसे में गुड़ का सेवन काफी फायदेमंद हो सकता है। गुड़ ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने का काम भी कर सकता है। खासतौर पर हाई ब्लड प्रेशर से परेशान लोगों को रोजाना गुड़ का सेवन करने की सलाह दी जाती है। रोजाना सुबह खाली पेट पानी के साथ गुड़ का सेवन करें।
  • शरीर होगा मजबूत और एक्टिव
    गुड़ शरीर को एक्टिव और मजबूत रखने में भी मददगार माना जाता है। जो लोग दुपलेपन से परेशान हैं उनके लिए भी गुड़ काफी फायदेमंद माना जाता है। शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए दूध के साथ गुड़ का सेवन काफी कारगर हो सकता है। इससे शरीर को एनर्जी मिलती है। यह कब्ज को दूर करने में लाभकारी माना जाता है।
  • पीरियड्स के दर्द से दिलाएगा राहत
    पीरियड्स के्रम्प्स और दर्द से राहत दिलाने के लिए भी आप दही में गुड़ मिलाकर सेवन कर सकते हैं। यह न सिर्फ पीरियड्स के दर्द से राहत दिला सकता है बल्कि पेट की ऐंठन को भी दूर करने में मददगार हो सकता है। अगर आपने अभी तक इसे ट्राई नहीं किया है तो आज से ही इसका सेवन शरू करें। गुड़ और दही के फायदों को एक साथ लें, नेचुरल तरीके से वजन कम करने के लिए दो चीजें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। आपकी डाइट और आपका शरीरिक रूप से एक्टिव रहना। डाइट में आप रोजाना एक कटोरी में गुड़ मिलाकर ले सकते हैं। यह आपके वजन को कम करने में तेजी ला सकता है। अगर आप तेजी से अपना वजन कम करना चाहते हैं तो दही और गुड़ का सेवन कर सकते हैं।
  • गुड़ की चाय का करें इस्तेमाल
    गुड़ शरीर के भीतरी तापमान को भी संतुलित रखने में सहायक होता है। या तो गुनगुने पानी में या फिर चाय में शक्कर के स्थान पर आप गुड़ डालना शुरू कर दीजिए, यह आपकी सेहत और सुंदरता दोनों को अच्छा रखेगा। यूं तो गुड़ का उपयोग विश्वभर में किया जाता है, लेकिन मूलत: दक्षिण एशिया में विशेष तौर पर किया जाता है। भारत के ग्रामीण इलाकों में गुड़ का उपयोग चीनी के स्थान पर किया जाता है। गुड़ लोहतत्व का एक प्रमुख स्रोत है और रक्ताल्पता (एनीमिया) के शिकार व्यक्ति को चीनी के स्थान पर इसके सेवन की सलाह दी जाती है। गुड़ के एक अन्य हिन्दी शब्द जागरी का प्रयोग अंग्रेजी में इसके लिए किया जाता है।
  • स्किन के दाग-धब्बों से दिलाता है राहत
    स्किन से दाग और धब्बों को दूर करने के लिए गुण का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए एक चम्मच गुड़ पाउडर लें और उसमें 1 चम्मच टमाटर का रस, नींबू का रस और हल्दी की एक चुटकी मिक्स कर लें। इसे अपने चेहरे पर लगाएं, बेहतर परिणाम के लिए हफ्ते में दो बार लगाएं।
  • हड्डियों को देता है मजबूती
    अगर आपको सर्दियों में जोड़ों, हड्डियों में दर्द या सूजन की समस्या रहती है तो गुड़ इसमें भी आपको लाभ दे सकता है। गुड़ में भरपूर मात्रा में कैल्शियम और फास्फोरस पाया जाता है। यह दोनों तत्व हड्डियों को मजबूती देने में काफी फायदेमंद माने जाते हैं। गुड़ के साथ अदरक खाने से जोड़ों के दर्द और सूजन से राहत मिल सकती है.
  • अस्थमा के इलाज में लाभादायक
    अस्थमा के इलाज में गुड़ काफी लाभदायक होता है। गुड़ और काले तिल के लड्डू बनाकर खाने से सर्दी में अस्थमा की समस्या नहीं होती और शरीर में आवश्यक गर्मी बनी रहती है। इसके अलावा सांस संबंधी रोगों के लिए पांच ग्राम गुड़ को समान मात्रा में सरसों के तेल में मिलाकर खाने से सांस संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। गला बैठ जाने और आवाज जकड़ जाने की स्थिति में पके हुए चावल में गुड़ मिलाकर खाने से बैठा हुआ गला ठीक होता है एवं आवाज भी खुल जाती है। कान में दर्द होने पर भी गुड़ काफी लाभदायक होता है। गुड़ को घी के साथ मिलाकर खाने से कान में होने वाले दर्द की समस्या ये निजात मिलती है। पीलिया हो जाने पर पांच ग्राम सोंठ में दस ग्राम गुड़ मिलाकर एक साथ खाने से काफी लाभ मिलता है। वैसे तो गुड़ को गर्म तासीर का माना जाता है, लेकिन इसके पानी के साथ घोलकर पीने से यह शरीर में ठंडक प्रदान करता है, और गर्मी को नियंत्रित करता है।