Fri. Mar 22nd, 2019

डीआरएस फैसले से फिर नाराज हुए कोहली

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 4 विकेट से हराया

मोहाली, (एजेंसी)। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कल मोहाली में खेले गए सीरीज के चौथे एकदिवसीय मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को चार विकेट से हरा दिया। इस मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 358 का विशाल स्कोर खड़ा किया था, जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 13 गेंद बाकी रहते मुकाबला जीत लिया। इस मैच में कप्तान विराट कोहली ने एश्टन टर्नर के खिलाफ डीआरएस अपील के फैसले पर चिंता जताई है। मैन ऑफ द मैच टर्नर ने 43 गेंदों पर 84 रनों की पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया को 4 विकेट से शानदार जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की। ऑस्ट्रेलियाई पारी के 44वें ओवर में युजवेंद्र चहल गेंदबाजी कर रहे थे। चहल की गेंद टप्पा खाने के बाद और बाहर निकली। टर्नर ने शॉट खेलने का प्रयास किया, लेकिन वह असफल रहे। लेकिन विकेटकीपर ऋ षभ पंत ने गेंद पकड़ते ही गिल्लीयां बिखेर दीं। पंत ने कैच की जोरदार अपील की। वहीं स्व्केअर लेग पर खड़े अंपायर ने स्टंप के लिए तीसरे अंपायर की ओर इशारा किया। रिव्यू में साफ हो गया कि टर्नर का पैर क्रिज के अंदर था और ऐसे में स्टंप आउट होने का सवाल ही नहीं उठता। लेकिन जहां तक कैच की बात थी, तो ऐसा लगा कि जैसे कोई आवाज हुई है। स्क्रीन पर दिख रहा था कि गेंद जब बल्ले से आगे निकल गई उसके बाद ही स्पाइक आए हैं। अंपायर ने इसे वाइड बॉल करार दिया। भारतीय टीम विशेषकर कप्तान कोहली बड़ी स्क्रीन पर इसे देखकर हालांकि बहुत खुश नजर नहीं आए। कोहली ने मैच के बाद कहा, डीआरएस हम सबके लिए हैरानी भरा रहा। लगभग हर मैच के बाद इस पर चर्चा होने लगी है। डीआरएस के प्रदर्शन में निंरतरता का अभाव नजर आ रहा है। यह मैच के लिए काफी महत्वपूर्ण लम्हा था।

धवन का शतक गया बेकार : इससे पहले बल्लेबाजी करते हुए शिखर धवन ने शानदार शतक जड़ा, लेकिन उनका ये शतक भारत को जीत नहीं दिला सका। रोहित शर्मा और धवन ने सपाट पिच पर पहले विकेट के लिए 193 रन जोड़े। धवन (115 गेंदों पर 143 रन) ने वनडे में अपना 16वां शतक लगाया, लेकिन उप कप्तान रोहित (92 गेंदों पर 95 रन) अपने 23वें शतक से चूक गए। अंतिम 15 ओवरों में लगातार विकेट गंवाने के बावजूद भारत ने अच्छी शुरुआत के दम पर नौ विकेट पर 358 रन का विशाल स्कोर बनाया। लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने 47.5 ओवर में 6 विकेट पर 359 रन बना दिए, जो उसका बाद में बल्लेबाजी करते हुए सबसे बड़ा स्कोर है। हैंड्कॉम्ब (105 गेंदों पर 117 रन) और उस्मान ख्वाजा (99 गेंदों पर 91 रन) ने तीसरे विकेट के लिए 192 रन जोड़कर ऑस्ट्रेलिया को शुरुआती झटकों से उबारा। लेकिन वह टर्नर थे जिन्होंने मैच का पासा पूरी तरह से पलटा। उन्होंने 43 गेंदों पर पांच चौकों और छह छक्को की मदद से नाबाद 84 रन की तूफानी पारी खेली। भारत का पहाड़ जैसा स्कोर पीटर हैंड्कॉम्ब के सैकड़े और एस्टन टर्नर की तूफानी पारी के सामने बौना साबित हो गया। इस जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने पांच मैचों की सीरीज 2-2 से बराबर कर दी।