September 23, 2020

तीन घेरे में साथी

सांध्य ज्योति डेस्क
जयपुर, 12 सितम्बर। कांग्रेस एक ओर सत्ता के लिए संघर्ष कर रही है और दूसरी ओर खुद और भविष्य से लड़ रही है। कहा जाता है कि गांधी परिवार के दो दिग्गज तीन घेरों से घिरे हुए हैं। यह भी माना जाता है कि गांधी परिवार दोस्त, सहयोगियों और करीबियों के घेरे से घिरा हुआ है। तीनों घेरे हमेशा के लिए बने हुए हैं। बस कुछ सालों बाद इनमें कुछ नई एंट्री होती हैं तो कुछ निकल जाते हैं। ये इनर सर्किल सोलर सिस्टम की तरह है। ये सदस्य निर्णय लेने में कितना आगे रहते हैं यह गांधी परिवार से उनकी निकटता पर निर्भर करता है क्योंकि उनका राजनीतिक करियर उस समय के पार्टी के चमकते सितारे की परिक्रमा से ही तय होगा। अभी कांग्रेस के पास दो सितारे हैं। एक सोनिया और दूसरे राहुल गांधी। इनमें से कई सालों से उनके साथ हैं तो कुछ दोनों के साथ है।

सोनिया गांधी को पुरानों पर भरोसा
अंतरिम अध्यक्ष के रूप में सोनिया गांधी को पुराने नेताओं पर अब भी भरोसा है। उनके साथ पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी जैसे सम्मानित नेता हैं। इसके साथ ही अंबिका सोनी और पार्टी कोषाध्यक्ष अहमद पटेल भी साल 1998 से ही उनके साथ हैं। इसके बाद नाम आता है सुमन दूबे का जो पूर्व पीएम राजीव गांधी के करीबी दोस्त रहे है। हाल ही में कांग्रेस में फूटे लेटर बम के बाद गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल और वीरप्पा मोइली सरीखे सीनियर लीडर फिलहाल इस घेरे से बाहर है। वहीं दूसरे घेरे में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे और नौ बार के लोकसभा सांसद, मल्लिकार्जुन खडग़े, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सूरजेवाला शामिल हैं। वहीं तीसरे और सबसे बाहरी घेरे में पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह, पी. चिदंबरम, जयराम रमेश और अभिषेक मनु सिंघवी हैं।

राहुल गांधी की टीम में युवा ज्यादा
एक ओर जहां सोनिया के आसपास दिग्गज और वरिष्ठ नेताओं का घेरा है जो खुद को पहले से साबित कर चुके हैं वहीं राहुल कैंप में ज्यादातर युवा नेता और पेशेवर में शामिल हैं जो सोचते हैं कि वे कांग्रेस में नए वर्क कल्चर के जरिए फिर से उसका भाग्योदय कर देंगे। सुरजेवाला और वेणुगोपाल के अलावा, राहुल गांधी के सबसे करीबी सहयोगियो में सोशल मीडिया कोआर्डिनेटर निखिल अल्वा, फॉर्मर इन्वेसटमेंट बैंकर अलंकार सवाई, रणनीतिक सलाहकार सचिन राव, ऑक्सफोर्ड स्कॉलर कौशल किशोर विद्यार्थी और सैम पित्रोदा हैं।