Mon. Feb 18th, 2019

तेवर तल्ख, सरकार को चेताया

गुर्जर आरक्षण आंदोलन : रेलवे ट्रैक पर महापड़ाव जारी, भरतपुर में भी धारा-144

सांध्य ज्योति संवाददाता

जयपुर, 11 फरवरी। पांच फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलनरत गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने रविवार को धौलपुर की घटना के बाद अपने तेवर और तल्ख कर लिए हैं। धौलपुर में पथराव और फायरिंग की घटना पर आक्रोश प्रकट करते हुए पदाधिकारियों ने कहा कि सरकार हवाई फायर कर डराने की कोशिश कर रही है।
नेताओं ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि सरकार गुर्जरों को उकसाए नहीं, अन्यथा उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। उधर गुर्जर आंदोलनकारी लगातार चौथे दिन आज सोमवार को भी सवाई माधोपुर के मलारना डूंगर में दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर डटे हुए हैं। रविवार को धौलपुर में आंदोलन के हिंसक होने के बाद एहतियात के तौर पर भरतपुर जिले में भी धारा-144 लगा दी गई है। इससे पहले आंदोलन स्थल मलारना डूंगर क्षेत्र सहित गुर्जर बाहुल्य दौसा और करौली में भी धारा-144 लागू की जा चुकी है।

गुर्जरों को उकसाने का काम नहीं करें
कर्नल बैसला के पुत्र विजय बैंसला ने धौलपुर की घटना को दमनकारी बताते हुए कहा कि पुलिस हवाई फायर करके डराने का प्रयास कर रही है। ऐसा किया तो सरकार को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। उन्होंने सरकार को चेताया कि वह गुर्जरों को उकसाने का काम नहीं करे। रविवार को गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने समाज से वादा किया था, लेकिन अब वे वादा खिलाफी कर नया बहाना बना रहे हैं। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि कल मंत्री विश्वेन्द्र सिंह आए थे बात करने के लिए, लेकिन उनके पास आरक्षण का कोई मसौदा नहीं था। वे केवल यहां का नजारा देखकर चले गए। इससे लग रहा है कि सरकार गंभीर नहीं है। बैंसला ने कहा कि गुर्जर कोई कमेटी नहीं बनाएंगे। सरकार की ओर से आज भी कोई संदेश नहीं मिला है। ऐसे में आंदोलन लगातार जारी रहेगा। अगर यही हाल रहा तो समूचा राज्य आंदोलन की चपेट में आ जाएगा।

रेलवे ट्रैक पर तंबुओं की संख्या बढ़ी
दूसरी तरफ मलारना रेलवे ट्रैक पर तंबुओं की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। गुर्जर आंदोलनकारी खाद्य सामग्री और रजाई-गद्दे जुटाने में लगे हुए हैं वहीं कई लोग आंदोलनकारियों को आर्थिक सहायता भी दे रहे हैं।

रेलमार्ग पूरी तरह से ठप
आंदोलन के चलते पिछले चार दिन से दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग पूरी तरह से ठप है। इसके कारण इस मार्ग से गुजरने वाली ट्रेनों को रद्द करने और उनका मार्ग परिवर्तित करने का सिलसिला भी बदस्तूर जारी है। आज भी कोटा रेल मंडल ने 4 ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द कर दिया है, वहीं 6 ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित किया गया है। रेलवे का चार्ट गड़बड़ाने से यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। करौली-हिंडौन मार्ग पर भी लगातार तीसरे दिन जाम जारी है, जिससे इस मार्ग पर यातायात पूरी तरह से ठप है।

यह रहेगी आंदोलनकारियों की आज की रणनीति
आंदोलन की रणनीति के तहत आज विभिन्न इलाकों में गुर्जर समाज की महापंचायतें और राजमार्ग जाम करना प्रस्तावित है। इन महापंचायतों में आंदोलन को धार देने की आगामी रणनीति पर चर्चा की जाएगी। अजमेर-नागौर जिले की सीमा पर बॉडी घाटी में गुर्जर समाज प्रदर्शन करेगा। समाज के लोग थांवला गांव में एकत्रित होकर बॉडी घाटी की ओर कूच करेंगे। कोटा में किशोरपुरा में गुर्जर समाज के लोग देवनारायण मंदिर में जुटेंग। इनके साथ रेबारी, बंजारा और गाडिय़ा लुहार समाज के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।