November 30, 2020

दूध में फैट पर कम हुए दाम, डेयरी दूध की कीमतें नहीं हुई कम

पशुपालकों को नुकसान, डेयरी को लाभ

जयपुर, 31 अक्टूबर। पशुपालकों और किसानों को दी जाने वाली दूध की क़ीमत कम किए जाने के बावजूद जयपुर डेयरी प्रशासन ने उपभोक्ताओं को इसका फायदा नहीं दिया है। उपभोक्ताओं को सप्लाई किए जाने वाली दूध की कीमतों में कोई कमी नहीं की गई है। डेयरी सात महीने पहले ही पशुपालकों और किसानों से खरीदा जाने वाले दूध में 700 रुपए प्रति किलो ग्राम फैट से घटाकर 600 रुपए प्रति किलोग्राम फैट कर चुकी है। इसके बाद भी उपभोक्ताओं को दूध की दरों में कमी करके राहत नहीं दी गई। पशुपालकों-किसानों की कम की दूध कीमत के हिसाब से उपभोक्ता को दूध दो रुपए सस्ता मिल सकता है। 30 मार्च से पहले डेयरी पशुपालकों और किसानों को 7 रुपए प्रति फैट के हिसाब से भुगतान कर रही थी। इसके अतिरिक्त डेयरी 3 रुपए प्रति किलोग्राम और सरकार 2 रुपए प्रति किलोग्राम पर बोनस दे रही थी। 1 अप्रैल से दूध की कीमतों में कमी करके 6 रुपए प्रति किलोग्राम कर दिया गया। वहीं बोनस में भी एक रुपए की कटौती कर दी गई। अब डेयरी समितियों को क़ीमत के अतिरिक्त 2 रुपए और सरकार 2 रुपए प्रति किलोग्राम बोनस दे रही है।
डेयरी प्रशासन ने जिस प्रकार से पशुपालकों और किसानों को दी जाने वाली कीमत में कमी की है, उस हिसाब से उपभोक्ताओं को दूध 2 रुपए प्रति लीटर सस्ता मिलना चाहिए। गोल्ड 54 रुपए की जगह 52 रुपए तो टोंड 44 की जगह 42 रुपए प्रति लीटर मिलना चाहिए। शहर में सबसे अधिक डिमांड टोंड की है। डेयरी शहर में करीब 8.50 लाख लीटर दूध सप्लाई कर रही है। इसमें से 6 लाख लीटर दूध टोंड शामिल है। हालांकि जयपुर डेयरी प्रशासन 31 सितंबर को गोल्ड दूध और छाछ तो 2-2 रुपए प्रति लीटर सस्ता कर दिया, लेकिन टोंड की दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया।