September 22, 2020

पं. मोतीलाल जोशी को श्रद्धांजलि

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 17 सितम्बर। राजस्थान संस्कृत साहित्य सम्मेलन के महामंत्री, संस्कृत शिक्षा राजस्थान के रजिस्ट्रार, निरीक्षक, अनेक विश्वविद्यालयों में सिण्डीकेट, सीनेट, रिसर्च बोर्ड, फाईन आर्ट, वित्त समिति, चयन समितियों में सदस्य एवं संयोजक रहे पं. मोतीलाल जोशी की 8वीं पुण्यतिथि पर राजस्थान संस्कृत साहित्य सम्मेलन एवं राजस्थान शिक्षण प्रशिक्षण संस्थान समिति के तत्वावधान में पुण्यतिथि कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान भक्ति संगीत के साथ उनकी मूर्ति पर पुष्पांजलि कर स्मरण किया गया।
इस अवसर पर पूर्व शिक्षामंत्री बृजकिशोर शर्मा ने पं. जोशी की मूर्ति पर श्रद्धा-सुमन अर्पित कर संस्थान परिसर में पौधरोपण भी किया। कोरोना संक्रमण के चलते प्रतिवर्ष की तरह इस वर्ष बड़ा आयोजन न होने के कारण स्व. जोशी के पुण्य स्मरण के रूप में प्रदेश एवं देश के अनेक विद्वानों एवं शिक्षाविदों जिनमें संस्कृत राष्ट्रकवि डॉ. रमाकान्त शुक्ल नई दिल्ली, प्रो. जयप्रकाश नारायण द्विवेदी गुजरात, प्रो. शिवजी उपाध्याय, कमलेश दत्त त्रिपाठी, प्रो. युगलकिशोर मिश्र, वाराणसी, प्रो. अभिराज राजेन्द्र मिश्र, हिमाचल, प्रो. गंगाधर पण्डा, कुलपति-झारखण्ड, डॉ. बलदेवानन्द सागर नई दिल्ली, डॉ. सदानन्द दीक्षित, उड़ीसा, राष्ट्रपति सम्मानित देवर्षि कलानाथ शास्त्री, प्रो. दयानन्द भार्गव, प्रो. बनवारी लाल गौड़, डॉ. राजेश्वरी भट्ट, पं. रामस्वरूप दोतोलिया, पं. सांवरमल शास्त्री, डॉ. सीताराम दोतोलिया, प्रो. गोपीनाथ शर्मा, डॉ. सिन्धुलता जैन, संस्कृत शिक्षा निदेशालय, संभागीय संस्कृत अधिकारी एवं अनेक संस्कृत शिक्षण संस्थाओं के प्रधानों ने जोशी की 5 दशक तक संस्कृत के लिए की गई सेवाओं का स्मरण करते हुए जोशी को श्रद्धांजलि अर्पित की। राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. अनुला मौर्य ने उन्हें संस्कृत के विकास पुरुष के रूप में स्मरण किया।