September 22, 2020

पांच साल में पहली बार घरेलू धरती पर वनडे सीरीज हारा इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया जीता

मैनचेस्टर, (एजेंसी)। ग्लेन मैक्सवेल और एलेक्स कैरी की धमाकेदार पारी ने ऑस्ट्रेलिया को इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के तीसरे मैच में तीन विकेट के साथ जीत दिला दी। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को उसकी ही जमीन पर पांच साल बाद पहली बार वनडे सीरीज में परास्त करने वाली टीम का तमगा भी हासिल कर लिया। इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को पूरे 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 302 रनों की दमदार चुनौती दी, जिसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने दो गेंद शेष रहते 305 रन बना लिए। इस दौरान ऑस्ट्रेलिया ने भी अपने सात विकेट खोए। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से 50वें ओवर की चौथी गेंद पर चौका जड़कर मैच और सीरीज के जीत-हार का फैसला कर दिया।

धड़ाधड़ गिरे ऑस्ट्रेलिया के पांच विकेट : ऑस्ट्रेलिया की तरफ से ग्लेन मैक्सवेल ने सबसे ज्यादा 108 जबकि एलेक्स कैरी ने 106 रन बनाए। ऑस्ट्रेलियाई विकेट किपर कैरी का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कॅरिअर में यह पहला शतक है। मैक्सवेल और कैरी के बीच टीम के प्रति रनों के योगदान के मामले में तो सिर्फ दो रन का ही अंतर रहा, लेकिन मैक्सवेल ने 120 की औसत से रन बनाए जबकि कैरी ने सिर्फ 92.98 की औसत से। इंग्लैंड के 303 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी कंगारू टीम को पहला झटका महज 21 रन पर ही लग गया जब एरॉन फिंच सिर्फ नौ बॉल खेलकर 12 रन के स्कोर पर आउट हो गए। अपनी पारी में उन्होंने दो चौके जरूर जड़े। टीम का दूसरा विकेट भी महज 10 रन बाद ही गिर गया और मार्कस स्टोइनिस सिर्फ चार रन बनाकर पवीलियन लौट गए। इस तरह 51 पर तीसरा, 55 पर चौथा और 73 पर पांचवां विकेट गिर गया, लेकिन ग्लेन मैक्सवेल और एलेक्स कैरी ने बल्लों की ऐसी करामात दिखाई कि मैच जिताकर ही दम लिया।

303 रनों का विशाल लक्ष्य देकर भी हार गया इंग्लैंड : इससे पहले, जॉनी बेयरस्टो के शतक की मदद से इंग्लैंड ने खराब शुरुआत से उबरकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे और निर्णायक एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में बुधवार को सात विकेट पर 302 रन का मजबूत स्कोर बनाया। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरे इंग्लैंड ने मिशेल स्टार्क की मैच की पहली दो गेंदों पर दो विकेट गंवा दिए थे, लेकिन बेयरस्टो ने 126 गेंदों पर 12 चौके और दो छक्के की मदद से 112 रन की पारी खेली और इस बीच सैम बिलिंग्स (58 गेंदों पर 56) के साथ पांचवें विकेट के लिए 114 रन जोड़कर इंग्लैंड को चार विकेट पर 90 रन की खराब स्थिति से उबारा।