September 21, 2020

पूर्व मंत्री ऊषा और सुरेंद्र गोयल की घर वापसी की सुगबुगाहट

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 11 सितम्बर। पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने समेत अन्य कारणों से बीजेपी से बगावत कर निकले नेताओं की वापसी की जमीन फिर से तैयार की जा रही है। इस कड़ी में पहले घनश्याम तिवाड़ी और मानवेंद्र सिंह का नाम सामने आया था लेकिन अब इस सूची में दो पूर्व मंत्रियों का नाम भी जुड़ गया है। इनमें वसुंधरा सरकार में मंत्री रही ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल का नाम शामिल हैं।

दोनों मिले थे राजे से
इन दोनों नेताओं ने पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की थी। उसके बाद इन दोनों के भी कांग्रेस छोड़कर वापस बीजेेपी का दामन थामने की अटकलें तेज हो गई है। इन दोनों नेताओं ने कांग्रेस का दामन तो थामा लेकिन ये कभी पार्टी के किसी मंच पर नजर नहीं आए। सुरेंद्र गोयल ने विधानसभा चुनाव-2018 में टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर कांग्रेस का दामन थाम लिया था लेकिन अब वसुंधरा राजे से उनकी मुलाकात काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। कयास हैं कि जल्द वापसी हो सकती है।

राजे के लिए बेनीवाल की काट साबित हो सकती हैं पूनिया
दिग्गज महिला जाट नेता ऊषा पूनिया ने भी हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से उनके निवास में पहुंचकर मुलाकात की थी। उसके बाद सियासत में इस बात की चर्चा तेजी से उठी है कि राजे के जरिए पूनिया की पार्टी में वापसी हो सकती है। ऐसा होता है तो राजे अपने घोर विरोधी आरएलपी नेता हनुमान बेनीवाल के खिलाफ पार्टी में ऊषा पूनिया और उनके पति विजय पूनिया को मजबूती से खड़ा कर सकती हैं। यह इसलिए हो सकता है क्योंकि पूर्व में ऊषा पूनिया ने विधानसभा के चुनाव में मूंडवा में हनुमान बेनीवाल को शिकस्त दी थी।