November 26, 2020

प्रदेश के स्कूलों को खोलने को लेकर असमंजस जारी

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 31 अक्टूबर। कोरोना के चलते 8 माह से बंद पड़े स्कूलों को खोलने को लेकर प्रदेश में अभी असमंजस बना हुआ है। शिक्षा विभाग ने 2 नवंबर से स्कूल खोलने का प्रस्ताव तैयार करके सरकार को भिजवाया था। इसके बाद सरकार ने यह मामला गृह विभाग को भेजते हुए कलेक्टरों से राय लेने के लिए कहा था। अब 2 नवंबर नजदीक है और स्कूल खोलने को लेकर कोई निर्णय नहीं होने से प्रदेश के एक लाख से अधिक सरकारी औ निजी स्कूलों के शिक्षक, कर्मचारी, अभिभावक और विद्यार्थी समझ असमंजस में है। शुक्रवार को जयपुर जिला कलेक्टर ने निजी स्कूल संचालकों से सुझाव लिए। इस दौरान कई निजी स्कूल संचालकों ने कोरोना के चलते स्कूलें बंद रखने की राय दी तो कुछ निजी स्कूल संचालक ऐसे थे जो यह चाहते थे कि स्कूलों का संचालन शुरू हो जाए। ताकि जो बच्चे ऑनलाइन नहीं पढ़ पा रहे हैं, उनकी भी पढ़ाई सुचारू चल सके। साथ ही निजी स्कूलों के शिक्षक- कर्मचारियों को भी राहत मिल सके। स्कूल शिक्षा परिवार को अध्यक्ष अनिल शर्मा ने बताया कि हमने जिला कलेक्टर को नवंबर में स्कूलों को खोलने का सुझाव दिया है। हमने सरकार को आश्वस्त किया है कि निजी स्कूलों में कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया जाएगा और मास्क अनिवार्य रहेगा।