October 23, 2020

फीस के मामले को लेकर अभिभावकों ने किया प्रदर्शन

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 14 अक्टूबर। एक तरफ सरकार है और दूसरी तरफ स्कूल संचालक है, लेकिन लगता है कानून केवल आम जनता पर थोपे जाते है। कानून की पालना के लिए ना सरकार की कोई जवाबदेही है, ना निजी स्कूल संचालकों की कोई जवाबदेही है। ऐसी स्थिति में कैसे प्रदेश के अभिभावकों को न्याय मिलेगा, जबकि इसी न्याय के लिए मंगलवार अभिभावक स्कूल, सरकार सहित कोर्ट तक कि ठोकरे खाने पर मजबूर हो रहा है, लेकिन ना कोई देखने वाला देख रहा है और ना ही कोई सुनने सुन रहा है। कैसे अभिभावकों को राहत मिले, एक तरफ कोरोना संक्रमण के चलते अगर राज्य की जनता मास्क ना पहने तो भी चालान केवल जनता का काटा है, लेकिन किसी नेता या अधिकारी का चालान नहीं काटा जाता, ठीक उसी प्रकार कोर्ट आदेश दे रही है स्कूल और सरकार को लेकिन थोपा जा रहा है अभिभावकों पर। इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर और निजी स्कूलों की फीस को लेकर सोमवार को दुर्गापुरा स्थिर रुकमणी बिड़ला स्कूल के अभिभावक स्कूल के बाहर इकठ्ठा हुए और स्कूल प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। संयुक्त अभिभावक समिति के प्रवक्ता ईशान शर्मा ने बताया कि कोर्ट ने स्कूलों की फीस वसूली पर रोक लगा दी है लेकिन स्कूल संचालक कोर्ट के आदेश के बावजूद नोवी,दसवीं, ग्यारहवीं और बारवी क्लास के बच्चों की फीस सीबीएसई बोर्ड के रजिस्ट्रेशन के नाम पर वसूल रहे है फीस जमा नही करवाने की एवज में खुलेआम धमकियां दी रहे है कि उनका रजिस्ट्रेशन फर्म नही भरा जाएगा। जो सीधे सीधे कोर्ट की अवमानना बनती है।