November 23, 2020

बजरी अवैध खनन, परिवहन, भण्डारण के विरुद्ध अभियान अब 13 जिलों में

25 लाख 54 हजार रुपए की राशि वसूली और 89 प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करवाई

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 24 अक्टूबर। राज्य में बजरी के अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान का दायरा बढ़ाते हुए बाड़मेर, जालोर और सिरोही जिले को भी शामिल कर लिया गया। जिला कलक्टर के निर्देशन में राजस्व, वन, परिवहन, पुलिस और खान विभाग की संयुक्त टीम द्वारा अब राज्य के 13 जिलों में अभियान का संचालन किया जा रहा है। अब यह अभियान जयपुर, धौलपुर, जोधपुर, उदयपुर, राजसमंद, चित्तोडग़ढ़, भीलवाड़ा, टोंक, सवाई माधोपुर, पाली, बाड़मेर, जालौर, सिरोही में संचालित किया जा रहा है।
अभियान में शिथिलता के चलते धौलपुर के माइनिंग इंजीनियर को आदेशों की प्रतीक्षा (एपीओ) कर सहायक खनि अभियंता को चार्ज दिया गया है। अभियान की अब तक की प्रगति पर संतोष व्यक्त करते हुए खान मंत्री प्रमोद जैन भाया ने कहा कि समन्वित प्रयासों से अभियान के अपेक्षानुसार परिणाम प्राप्त हो रहे हैं। राज्य सरकार अवैध बजरी खनन, परिवहन और भण्डारण पर के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए प्रतिबद्ध है और उसी का परिणाम है कि एक साथ 13 जिलों में जिला कलक्टर के निर्देशन में संबंधित विभागों व पुलिस प्रशासन की सहभागिता से अभियान का संचालन हो रहा है।

207 मामलें सामने आए
एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि सचिवालय में उच्चस्तरीय बैठक लेते हुए सभी जिलों की प्रगति समीक्षा की और अभियान के तहत 22 अक्टूबर तक बजरी के अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के 207 मामलें सामने आए हैं। पुलिस में 89 प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करवाई गई हैं, वहीं 25 लाख 54 हजार रुपए की राशि वसूली गई है। संयुक्त अभियान के दौरान मौके पर 36 हजार 287 टन बजरी जब्त करने के साथ ही राज्य में अभियान के दौरान पोकलेन, ट्रेक्टर आदि सहित 144 वाहन-मशीनरी की जब्ती की गई है।
अभियान के दौरान 58 मामलें भीलवाड़ा में सामने आए हैं। वहां पुलिस में 50 एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। 19089 टन बजरी की जब्ती के साथ ही भीलवाड़ा में 25 वाहन-मशीनरी जब्त की गई है। जयपुर में 31 मामलें सामने आए हैं, जयपुर में 3150 टन बजरी जब्ती के साथ ही 29 वाहन-मशीनरी जब्त की गई है। वाहन-मशीनरी में टोंक में 25, चित्तोडग़ढ़ में 5, राजसमंद में 14, सवाई माधोपुर में 18, धौलपुर में 1, जोधपुर में 15, उदयपुर में 7, पाली में 3 और सिरोही में 2 वाहन-मशीनरी जब्त की गई है। इसी तरह से टोंक में 3820, चित्तोडग़ढ़ में 3320, राजसमंद में 930, सवाई माधोपुर में 5050, धौलपुर में 200, जोधपुर में 120, उदयपुर में 140 टन बजरी जब्त की गई है।

यह है एक सप्ताह की कार्रवाई
एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि अभियान के दौरान एक सप्ताह में लगभग 25 लाख 54 हजार की वसूली की है, जिसमें जोधपुर में सर्वाधिक 17 लाख 50 हजार, उदयपुर में 5 लाख 23 हजार व राजसमंद में 2 लाख 79 हजार से अधिक की वसूली की गई है। पुलिस में सर्वाधिक 58 एफआईआर भीलवाड़ा में दर्ज की गई हैं, वहीं जयपुर में 1, टोंक में 19, चित्तोडग़ढ़ में 7, राजसमंद में 4, सवाईमाधोपुर में 2, जोधपुर में 3, उदयपुर में 2 और पाली में एक एफआईआर दर्ज कराई गई है।

नियमित मॉनेटरिंग की जा रही
निदेशक माइंस केबी पाण्ड्या ने बताया कि बजरी के अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के खिलाफ राज्य में जिला कलक्टर के निर्देशन में 15 अक्टूबर से अभियान चलाया जा रहा है। माइंस, राजस्व, वन, परिवहन और पुलिस विभाग द्वारा संयुक्त रुप से चलाया जा रहा अभियान 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा। अभियान की नियमित मॉनेटरिंग की जा रही है। बैठक में संयुक्त सचिव माइंस ओम कसेरा, अतिरिक्त निदेशक खान विजिलेंस उदयपुर एनके कोठारी, टीए सतीश आर्य, ओएसडी संजय दुबे व माइंस विभाग जयपुर व उदयपुर के अधिकारी भी उपस्थित रहे।