September 24, 2020

बड़ी इकॉनमी में भारत की जीडीपी सबसे ज्यादा गिरी

एकमात्र चीन में पॉजिटिव ग्रोथ

नई दिल्ली, (एजेंसी)। सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए 25 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन लगाया था। इसका असर अर्थव्यवस्था पर पड़ा है। केंद्र ने 20 अप्रैल से धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को मंजूरी देनी शुरू की। ज्यादातर रेटिंग एजेंसियों और विशेषज्ञों ने देश के जीडीपी में 2020-21 में गिरावट का अनुमान जताया है। कोरोना से पूरी दुनिया प्रभावित है। अप्रैल जून तिमाही में जीडीपी में सबसे ज्यादा गिरावट भारत में दर्ज की गई है। भारत की जीडीपी में 23.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर इंग्लैंड आता है। वहां की जीडीपी में अप्रैल-जून तिमाही में 20.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। इस मामले में तीसरा सबसे प्रभावित देश फ्रांस है। वहां जून तिमाही में ग्रोथ रेट में 13.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की। इटली में 12.4 फीसदी और कनाडा में 12 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। अप्रैल-जून तिमाही में जर्मनी की जीडीपी में 10.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की। उसी तरह अमेरिका की जीडीपी में 9.5 फीसदी और जापान की जीडीपी में 7.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। बड़ी और डिवेलप्ड इकॉनमी में एकमात्र चाइना ऐसा देश है जिसने अप्रैल-जून तिमाही में पॉजिटिव ग्रोथ रेट रेकॉर्ड किया है। जून तिमाही में उसका ग्रोथ रेट प्लस 3.2 फीसदी रहा है। दरअसल कोरोना की शुरुआत चीन से हुई थी। उसके बाद यह धीरे-धीरे दूसरे देशों में फैला। चीन ने करीब तीन महीने के लिए लॉकडाउन लागू कर इस वायरस पर नियंत्रण पा लिया, जिसके कारण अब हालात कंट्रोल में और सामान्य हैं। वहां आर्थिक गतिविधि तेजी से पटरी पर वापस लौटी है। कई ऐसी रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें कहा गया है कि चीन ने भारत से आयात बढ़ा दिया है क्योंकि उसके यहां औद्योगिक गतिविधियां तेजी से चल रही है।