September 25, 2020

बदला-बदला सा नजारा दिखा संसद में

मानसून सत्र शुरू

नीलम जीना
नई दिल्ली, 14 सितम्बर। कोरोना संकट के बीच संसद का महत्वपूर्ण मानसून आज से शुरू हो गया। लोकसभा की कार्यवाही सुबह नौ बजे शुरू हुई। सदन में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी गई। स्पीकर ओम बिड़ला ने प्रणब मुखर्जी का जिक्र करते हुए कहा कि वह एक सफल वक्ता और प्रशासक थे। उनका ज्ञान और अनुभव अद्वितीय था। इसके बाद लोकसभा की कार्यवादी एक घंटे के लिए स्थगित कर दी गई। लोकसभा की कार्यवाही पहले दिन आज सुबह नौ बजे से दोपहर एक बजे तक चलेगी और फिर 15 सितंबर से एक अक्टूबर तक दोपहर दो बजे से शाम सात बजे तक लोकसभा का सदन बैठेगा। इसी तरह राज्यसभा की कार्यवाही भी आज दोपहर को तीन बजे से शाम सात बजे से होगी, लेकिन 15 सितंबर से सुबह नौ बजे से एक बजे तक रहेगी। लोकसभा और राज्यसभा की टाइमिंग कोरोना को देखते हुए अलग-अलग रखी गई है। आज राज्यसभा में उपसभापति का चुनाव भी है। मुकाबला हरिवंश और मनोज झा के बीच है। हरिवंश एनडीए के उम्मीदवार हैं तो मनोज झा विपक्ष की ओर से मैदान में हैं।
इस बार का सत्र कई मायनों में अलग है। संसद के भीतर कई तरह के नियमों का सांसदों को पालन करना होगा। हालांकि कई सांसद इस सत्र में शामिल नहीं होंगे। कई दौर की समीक्षा बैठकों और कोविड-19 को लेकर विस्तृत प्रोटोकॉल बनाने के बावजूद कई सांसद मानसून सत्र से अनुपस्थित रहेंगे। तृणमूल कांग्रेस के सात सांसदों ने संसद सत्र में भाग नहीं लेने का फैसला किया है। इनमें राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर राय भी शामिल हैं। बेलगावी से भाजपा के सांसद और रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगड़ी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके अलावा केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक को शनिवार को ही पणजी के एक अस्पताल से छुट्टी मिली है। इसलिए इन दोनों के भी संसद सत्र में शामिल होने की संभावना नहीं है।

20 साल में पहली बार नहीं हुई सर्वदलीय बैठक: लोकसभा और राज्यसभा सचिवालय की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक दोनों सदनों की कार्यवाही अलग-अलग पालियों में सुबह नौ बजे से एक बजे तक और तीन बजे से सात बजे तक चलेगी इस बार सत्र शुरू होने से पहले कोई सर्वदलीय बैठक नहीं हुई। पिछले 20 सालों में ऐसा कभी नहीं हुआ था। किसी भी सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक की एक परंपरा रही है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिकए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और विपक्षी नेताओं के बीच बढ़ती दूरियों के चलते ऐसा नहीं हो पा रहा है।

कोरोना भी है और कर्तव्य भी-मोदी
संसद पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि संसद का सत्र ऐसे कठिन समय में शुरू हो रहा है, जहां एक तरफ कोरोना है और दूसरी तरफ कर्तव्य। सांसदों ने कर्तव्य का पथ चुना है। मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। हिंदी दिवस पर आप सभी को शुभकामनाएं।