Tue. Jul 16th, 2019

भारत की हार के साथ ही करोड़ों भारतीयों का टूटा सपना

भारत की हार के साथ ही करोड़ों भारतीयों का टूटा सपनान्यूजीलैंड से हारकर वल्र्डकप से हुआ बाहर

मैनचेस्टर, (एजेंसी)। आईसीसी वल्र्डकप में खिताब की प्रबल दावेदार के रूप में मानी जा रही भारतीय टीम का सफर कल सेमीफाइनल में खत्म हो गया है। उसे दो दिन तक चले इस रोमांचक सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड के हाथों 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा। इसी के साथ न्यूजीलैंड लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंची है। उसने 2015 विश्वकप में भी फाइनल खेला था। फाइनल में न्यूजीलैंड का सामना ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच आज खेले जाने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच की विजेता से होगा। मैनचेस्टर में कीवी टीम का यह तीसरा सेमीफाइनल है जिसमें से दो में उसे हार जबकि यह उसकी पहली जीत है। वहीं भारत लगातार दूसरी बार सेमीफाइनल में हारकर विश्वकप से बाहर हुई है। 2015 में ऑस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में भारत को हराया था। मंगलवार को बारिश के कारण पूरा नहीं हो सका मैच कल यानी बुधवार को को रिजर्व डे में पूरा कराया गया। जब मैच रुका तब न्यूजीलैंड का स्कोर पांच विकेट के नुकसान पर 46.1 ओवरों में 211 रन था। बुधवार को न्यूजीलैंड ने अपनी पारी पूरी की और 50 ओवरों में 8 विकेट के नुकसान पर 239 रन बनाए।

बेहद खराब रही भारत की शुरूआत
240 रनों का पीछा करना ओल्ड ट्रेफर्ड की पिच पर आसान नहीं था क्योंकि बारिश और मौसम ने यहां की स्थितियां तेज गेंदबाजों के मुफीद बना दी थीं। और इसी के चलते भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और उसका मध्य क्रम एक बार फिर जिम्मेदारी भरी पारियों से अछूता रहा। भारत ने पांच रनों के कुल स्कोर पर अपने शीर्ष क्रम को खो दिया था। रोहित शर्मा (1) और लोकेश राहुल (1) को मैट हेनरी ने अपना शिकार बनाया और कप्तान विराट कोहली (1) का विकेट बाउल्ट ने लिया। भारत ने 92 रनों पर ही अपने 6 विकेट खो दिए थे। यहां से रवींद्र जडेजा (77) और महेंद्र सिंह धोनी (50) ने सातवें विकेट के लिए 116 रनों की साझेदारी कर भारत को जीत के करीब पहुंचाया। यह विश्वकप में सातवें विकेट के लिए दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है। ऐसा लग रहा था कि जडेजा और धोनी की जोड़ी भारत को फाइनल में पहुंचा देगी तभी ट्रेंट बाउल्ट ने मैच का रुख बदल दिया। उन्होंने 208 के कुल स्कोर पर जडेजा को कप्तान केन विलियम्सन के हाथों कैच कराया। जडेजा ने 59 गेंदों का सामना कर चार चौके और चार छक्के मारे। धोनी क्रिज पर भारत की आखिरी उम्मीद थे। आखिरी दो ओवरों में भारत को 31 रनों की दरकार थी। धोनी ने पहली गेंद पर छक्का मारा और दूसरी गेंद पर दो रन लेने चाहे। दूसरा रन लेने दौड़े धोनी, मार्टिन गुप्टिल की डायरेक्ट हिट से पहले बल्ला क्रीज पर नहीं रख सके और यहीं भारत की उम्मीदें खत्म हो गई। लॉकी फग्यूर्सन ने भुवनेश्वर कुमार और जिम्मी नीशम ने युजवेंद्र चहल (5) को आउट कर भारत को सेमीफाइनल में हार सौंपी।

पंत के आउट होने पर झल्लाए विराट
जब दिनेश कार्तिक के बाद ऋ षभ पंत भी आउट हुए तो कप्तान विराट कोहली कोच रवि शास्त्री से काफी देर तक बात करते नजर आए। इसके बाद उनके और रोहित शर्मा के बीच काफी देर तक चर्चा हुई। युवा खिलाड़ी पंत के पास कल हीरो बनने का मौका था। लेकिन गलत शॉट खेल आउट हो गए। इस पर कप्तान विराट कोहली झल्लाते नजर आए। मैच के बाद कप्तान कोहली से जब पूछा गया कि वह ड्रेसिंग रूम में शास्त्री के साथ क्या चर्चा कर रहे थे? तो इस पर उन्होने कहा कि मैंने पूछ था कि इस स्थिति से आगे जाने की क्या रणनीति है और मैदान के अंदर क्या संदेश भेजना है ताकि हम देख सकें कि मैच कहां जा रहा है। पंत का हालांकि बचाव करते हुए कहा है कि वह समय के साथ सीख जाएंगे। कोहली ने कहा कि वह स्वाभाविक खिलाड़ी हैं और उन्होंने खराब स्थिति से बाहर आने के लिए अच्छा काम किया है और पंड्या के साथ साझेदारी की।