Sun. May 31st, 2020

भीलवाड़ा में फिर दिखेगी कपड़ों की चमक!

  • श्रमिकों को मिलेगा लाभ

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 22 मई। कोरोना वायरस महामारी के कारण वस्त्र नगरी भीलवाड़ा में लागू लॉकडाउन के कारण उद्योग धंधे बंद थे। उद्योगों को फिर शुरू करने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार के निर्देश के बावजूद भीलवाड़ा में अब तक कपड़ा फैक्ट्री प्रारंभ नहीं हो पाई थी। जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट की पहल पर औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों श्रम संघों के प्रतिनिधियों एवं ठेकेदारों के बैठक में आपसी सहमति से निर्णय लेकर इन कपड़ा फैक्ट्रियों को फिर से शुरू करने का निर्णय लिया गया गया है। लॉकडाउन पीरियड का श्रमिकों को तय राशि का भुगतान करने का भी निश्चय हुआ। बैठक में यह तय किया गया कि जिन श्रमिकों ने मार्च महीने में 20 दिन तक काम पूरा किया होगा उन्हें पूरा 29 दिन का पूरा भुगतान किया जाएगा। इसी तरह अप्रैल एवं मई माह में अब तक के लिए श्रमिकों को निर्वाह भत्ता के रूप में 4000 का भुगतान किया जाएगा, जिसमें 2600 अप्रैल माह के लिए और 1400 मई माह के लिए भुगतान किया जाएगा। कपड़ा फैक्ट्रियों को शीघ्र ही प्रारंभ किया जाएगा। इसके बाद उत्पादन के आधार पर श्रमिकों को भुगतान किया जाएगा। यदि फैक्ट्री एक पारी अथवा दो पारी अथवा तीन पारी में जैसे-जैसेे चलेगी उस आधार पर ठेकेदारों को पेमेंट किया जाएगा।

लौटेगी रौनक
श्रमिकोंं और फैक्टरी मालिकों के बीच हुए इस समझौते से भीलवाड़ा कपड़ा मंडी में एक बार फिर रौनक लौटने की उम्मीद की जा रही है। भीलवाड़ा टेक्सटाइल ट्रेड फेडरेशन के अध्यक्ष दामोदर अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष श्याम चांडक, मेवाड़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष वीके बागरोदिया और श्रमिक संघ के अध्यक्ष पन्ना लाल चौधरी ने समझौता वार्ता में भाग लिया था। टेक्सटाइल लेबर एसोसिएशन के अध्यक्ष पन्ना लाल चौधरी ने कहा कि यह समझौता भीलवाड़ा के बंंद कपड़ा उद्योग को प्रारंभ करने के लिए महत्वपूर्ण सिद्ध होगा।