Fri. Aug 7th, 2020

भूमि पूजन पर अयोध्या को बड़ी सौगात दे सकते हैं मोदी

  • शिलान्यास तिथि का ऐलान आज संभव
  • राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की महत्वपूर्ण बैठक होगी

अयोध्या, 18 जुलाई (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला रखने के कार्यक्रम को लेकर शनिवार को राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की महत्वपूर्ण बैठक सर्किट हाउस में दोपहर करीब 3 बजे शुरू होगी। बैठक में मंदिर निर्माण के शिलान्यास तिथि को लेकर मंथन होगा। माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद ट्रस्ट शिलान्यास तिथि का ऐलान कर सकता है। इसके साथ ही शिलान्यास कार्यक्रम में पीएम नरेन्द्र मोदीके अयोध्या आने को लेकर भी बैठक में विचार-विमर्श किया जाएगा।

कई प्रस्ताव हो रहे तैयार: माना जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी का भूमि पूजन पर अयोध्या आना तय है। 5 अगस्त की तारीख की चर्चा है। कहा जा रहा है कि इसी तारीख को पीएम मोदी अयोध्या आएंगे और भूमि पूजन होगा। हालांकि इस तारीख पर फैसला तो ट्रस्ट की बैठक के बाद ही आएगा। अनुमान लगाया जा रहा है कि पीएम अपने इस दौरे में अयोध्या को बड़ी सौगात दे सकते हैं। सूत्रों के अनुसार यूपी सरकार की तरफ से अयोध्या में भगवान राम की प्रस्तावित 251 मीटर ऊंची मूर्ति के साथ ही अयोध्या में तमाम पर्यटन व नगर विकास को लेकर संबंधित विभागों से प्रस्ताव मांगा गया है। ये प्रस्ताव नई दिल्ली भेजा जा रहा है ताकि इस पर फौरन स्वीकृति हो और पीएम इसका ऐलान करें।

तैयारियां तेज
इससे पहले अयोध्या दौरे पर पहुंचे रामजन्मभूमि परिसर के सुरक्षा सलाहकार व पीएम नरेंद्र मोदी के पूर्व सुरक्षा इंचार्ज केके शर्मा और निर्माण समिति की चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र स्थानीय सुरक्षा अधिकारियों और ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के साथ अनौपचारिक बैठक कर तैयारियां शुरू कर दीं। इस दौरान स्थानीय सुरक्षा अधिकारियों के साथ अयोध्या के सर्किट हाउस में बैठक कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर चर्चा की गई। माना जा रहा है कि अगस्त के पहले सप्ताह में मंदिर निर्माण की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रख सकते हैं। इस दौरान कई केंद्रीय मंत्री व संघ के मोहन भागवत का भी अयोध्या आगमन हो सकता है। ट्रस्ट व स्थानीय प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है।

3 सदस्य वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेंगे
आज बैठक अयोध्या सर्किट हाउस में होगी। बैठक दोपहर करीब 3 बजे से शुरू बोने वाली बैठक में ट्रस्ट के 12 सदस्य मौजूद होंगे। वहीं 3 अन्य सदस्य वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल होंगे। इससे पहले 16 जुलाई को चंपत राय ने कहा था कि इस बैठक में शिलान्यास को लेकर चर्चा होगी।