September 28, 2020

महाप्रबंधक ने बताई एनडब्ल्यूआर की उपलब्धियां

क्षेत्र रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री की वीसी

जयपुर, 1 सितंबर। उत्तर पश्चिम रेलवेे (एनडब्ल्यूआर) पर क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति की 17वीं बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कल एनडब्ल्यूआर के प्रधान कार्यालय जयपुर में हुई। बैठक में रेलवे अधिकारियों ने समिति के सभी सदस्यों को एनडब्ल्यूआर की ओर से अब तक किए कार्यो व उपलब्धियों के बारे में बताया। इस मौके पर उपस्थित प्रतिनिधियों ने यात्री यातायात को ध्यान में रखते हुए रेलवे स्टेशनों पर स्वच्छ एवं शीतल जल उपलब्ध करवाने, नई ट्रेनों के संचालन एवं यात्री सुविधाओं में विस्तार संबंधी सुझाव दिए। साथ ही सदस्यों ने उपलब्ध रेल सेवाओं में वृद्धि एवं ठहराव सम्बंधी उपयोगी सुझाव भी दिए। बैठक में समिति के सदस्यों में एनडब्ल्यूआर के भौगोलिक क्षेत्र से संबन्धित संगठनों, चैम्बर ऑफ कॉमर्स, रेल यात्री संगठन, उपभोक्ता संरक्षण संगठन एवं मंत्रियों की ओर से नामित सदस्यों सहित कुल 21 प्रतिनिधीगण उपस्थित थे। बैठक में हरियाणा सरकार के राज्यमंत्री ओम प्रकाश भी उपस्थित थे। इस दौरान बैठक में अपर महाप्रबंधक श्रीमती अरुणा सिंह तथा विभागाध्यक्षों सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

1.90 से अधिक श्रमिकों को पहुंचाया गंतव्य स्थान तक
एनडब्ल्यूआर के मुख्य जन सम्पर्क अधिकारी अभय शर्मा ने बताया इस अवसर पर एनडब्ल्यूआर के महाप्रबंधक आनन्द प्रकाश ने बताया कि लॉकडाउन के समय देश के विभिन्न स्थानों पर रह रहे श्रमिकों के लिए एनडब्ल्यूआर ने 134 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर 1.90 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया। साथ ही प्रवासी श्रमिको को रेलवे कार्यो में रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए ‘गरीब कल्याण रोजगार योजनाÓ के तहत 20 हजार से अधिक मानव श्रम दिवस का रोजगार प्रदान करवाया। देश के प्रत्येक भाग में आवश्यक सामग्री की निर्बाध आपूर्ति के लिए इस वर्ष अब तक 6.21 मिलियन टन माल लदान किया, जो कि गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में लगभग बराबर है। इतना ही नहीं आवश्यक सामग्री को समय पर पहुंचाने की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए मालगाडिय़ों की औसत गति 83 फीसदी तक बढ़ाकर 44.72 किलोमीटर प्रति घंटा की। उन्होने बताया कि हमारा लक्ष्य है कि माल लदान व ढुलाई को अधिक से अधिक बढ़ाना है, जिसके लिए हमने मुख्यालय व मण्डलों में बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट की स्थापना की।

266 आइसोलेशन कोच बनाए
इसके अलावा अन्य उपलब्धियों के बारे में बताते हुए क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति के सचिव व उपमहाप्रबंधक (सामान्य) शशि किरण ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रेलवे ने भी विशेष प्रयास किए। कोविड मरीजों के लिए बैड की कमी न हो इसके लिए एनडब्ल्यूआर 266 कोचेज को कोविड केयर आइसोलेशन कोचेज में परिवर्तित किया। इसके अलावा अभी हाल ही में हमने एनडब्ल्यूआर के राजस्थान क्षेत्र में पहली इलेक्ट्रिक इंजन से संचालित यात्री ट्रेन दिल्ली सराय रोहिल्ल-अजमेर जनशताब्दी एक्सप्रेस का संचालन कर नए अध्याय की शुरूआत की। एनडब्ल्यूआर पर विद्युतीकरण के 100 फीसदी लक्ष्य के पर कार्य करते हुए हमारे यहां 1814 किलोमीटर मार्ग का विद्युतीकरण कार्य पूर्ण हो चुका है।