September 25, 2020

मांझी ने अपनाई वेेट एंड वाच की रणनीति

महागठबंधन से अलग होने के बाद नहीं खोले अभी पत्ते

पटना, 25 अगस्त (एजेंसी)। बिहार में विपक्षी दलों के महागठबंधन से भले ही हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने खुद को अलग कर लिया हो लेकिन पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भविष्य को लेकर अब तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। कहा जा रहा है कि वे वेेट एंड वॉच की रणनीति के तहत अपनी योजना को सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं। 20 अगस्त को महागठबंधन को झटका देते हुए मांझी ने खुद को महागठबंधन से अलग राह पर चलने की घोषणा कर दी थी। इसके बाद यह कयास लगाया जा रहा था कि वे जल्द ही जनता दल (युनाइटेड) के साथ गठबंधन कर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल हो जाएंगें लेकिन अब तक उन्होंने अपनी आगे की रणनीति की घोषणा नहीं की है। इधर सूत्रों का कहना है कि मांझी ने जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव से बात की है। पप्पू यादव की पार्टी भी अभी किसी गठबंधन में शामिल नहीं है। सूत्रों का कहना है कि मांझी अभी कुछ दिनों तक वेेट एंड वाचा् की स्थिति में रहेंगे उसके बाद अपने पत्ते खोलेंगे। सूत्र यह भी दावा कर रहे हैं कि मांझी की नजदीकियां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू के साथ बढ़ी हैं और पार्टी के साथ आने को लेकर उनकी चर्चा अंतिम दौर में हैं। इस बीच हालांकि पार्टी के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा,कई पार्टियों ने मांझी से संपर्क किया है और सभी लोगों ने उन्हें अपने साथ आने का निमंत्रण दिया है। इस महीने के अंत तक सभी स्थितियां स्पष्ट हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि हम शुरू से ही बिहार के विकास के प्रति संवदेनशील है और इसमें कोई शक नहीं है कि नीतीश कुमार ने अपने मुख्यमंत्री काल में बिहार के विकास में लंबी लकीर खींची है।