September 23, 2020

मांसपेशियों से लेकर नाखून तक स्वस्थ रखता हैं प्रोटीन

पोषण के मामले में हम दुनिया के ज्यादातर देशों से कमजोर हैं। कुपोषित शरीर से काम करने की क्षमता 10-15 फीसदी तक कम हो जाती है। प्रोटीन, विटामिंस, कार्बोहाइड्रेट, वसा और पानी आहार में शामिल कर कुपोषण से बचा जा सकता है। वजन घटाने व मसल्स बनाने के लिए जरूरी तत्व प्रोटीन ही है। हमारे रोजमर्रा के भोजन में 30 प्रतिशत प्रोटीन होना चाहिए। इसे अंडे, मछली, क्विनोआ, मशरूम, पनीर, दाल, छोले या चना, राजमा आदि से प्राप्त किया जा सकता है। यह खासतौर पर बढ़ते बच्चों और महिलाओं के लिए, जो रजोनिवृत्ति के समीप हैं, बहुत जरूरी है। प्रोटीन मांसपेशियों के निर्माण और मरम्मत में मदद करता है। वजन घटाने में सहायक है। त्वचा, नाखून और बालों को स्वस्थ बनाता है।

विटामिंस इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार और बीमारियों से बचाते हैं
विटामिन और खनिज दोनों ही बीमारियों को दूर करने और शरीर को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। विटामिन सी मजबूत इम्युनिटी के लिए अत्यंत आवश्यक है। यह इम्युनिटी ही घातक बीमारियों से लड़ती है। कई प्रकार के विटामिन ई, डी के साथ कैल्शियम, प्रोटीन और जस्ता भी मदद करते हैं। सब्जियां और फल अलग-अलग तरह के शरीर के लिए जरूरी विटामिन्स के स्रोत हैं।

कार्बोहाइड्रेट
अन्य सभी पोषक तत्वों की तरह कार्बोहाइड्रेट भी महत्वपूर्ण है। यदि आप वजन कम करना चाहते हैं, तो साधारण काब्र्स (साबूत गेहूं, सूजी, चावल, पोहा) को कम कर सकते हैं। इनकी जगह कॉम्प्लेक्स काल (बाजरा, जई, सिंघाड़ा आटा, क्विनोआ, कुट्टू, रागी, राजगिरा) प्रयोग करें। वैज्ञानिकों के अनुसार 1 ग्राम कार्ब में 4 कैलोरी होती है।

फैट
शरीर के बेहतर काम करने के लिए गुड फैट की जरूरत होती है जैसे कि कोशिकाओं का निर्माण, हार्मोन, मांसपेशियों और हड्डियों की गतिविधियों का उचित कार्य, कैलोरी अवशोषण और चमकती त्वचा। अंडे, जैतून का तेल, देसी घी, बादाम, अखरोट और सरसों का तेल आदि हेल्दी के अच्छे स्रोत हैं।

3 में से 1 बच्चा कुपोषण का शिकार
द स्टेट ऑफ द वल्र्डस चिल्ड्रेन- 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व में 5 वर्ष तक की उम्र के प्रत्येक 3 बच्चों में से एक बच्चा कुपोषण अथवा अल्पवजऩ की समस्या से ग्रसित है। पूरे विश्व में लगभग 20 करोड़ तथा भारत में प्रत्येक दूसरा बच्चा कुपोषण के किसी-न-किसी रूप से ग्रस्त है। रिपोर्ट बताती है कि वर्ष 2018 में भारत में कुपोषण के कारण 5 वर्ष से कम उम्र के लगभग 8.8 लाख बच्चों की मृत्यु हुई जो कि पाकिस्तान व अफ्रीकी देशों से भी ज्यादा बड़ा आंकड़ा है।

पानी
पर्याप्त पानी न केवल शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है, बल्कि वजन को भी संतुलित करता है। किसी भी व्यक्ति को कम से कम 5 लीटर पानी पीना चाहिए।