September 21, 2020

मालगाडिय़ां अब और तेज रफ्तार से दौड़ेंगी

  • स्पीड में 75 प्रतिशत का इजाफा

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 28 अगस्त। उत्तर पश्चिम रेलवे (एनडब्ल्यूआर)के तहत अब मालगाडिय़ों की औसत गति में इजाफा किया जा रहा है। मौजूदा गति में 75 प्रतिशत की बढ़ोतरी करके स्पीड को लगभग दोगुना कर दिया गया है। माल लदान के लिये रेलवे के विशेष प्रयास से बिजनेस डवलपमेंट यूनिट (बीडीयू) की भी स्थापना की गई है। देश के प्रत्येक भाग में आवश्यक सामग्री की निर्बाध आपूर्ति हो इसके लिये रेलवे विशेष प्रयास कर रहा है।

मालगाडिय़ों पर है खास ध्यान
इस वर्ष जुलाई तक उत्तर पश्चिम रेलवे पर 5.1 मिलियन टन माल लदान किया गया जो कि गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में लगभग बराबर है। वर्तमान में जब रेलवे पर सीमित संख्या में यात्री गाडिय़ों का संचालन बहुत कम हो रहा है, इसको देखते हुये मालगाडिय़ों के संचालन पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मालगाडिय़ों की औसत गति को बढ़ाने के लिये कार्य किया गया। उत्तर पश्चिम रेलवे पर मालगाडिय़ों की औसत गति अप्रैल 2020 से अगस्त 2020 तक 25.9 किलोमीटर प्रति घंटा से 75 प्रतिशत बढ़ाकर 45.40 किलोमीटर प्रति घंटा हुई है। रेलवे पर माल लदान और ढुलाई को ज्याद से ज्यादा प्रोत्साहित किया जा रहा है। जोनल एवं मंडल स्तर पर बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट की स्थापना की गई है जो व्यवसायियों और उद्योगपतियों से संपर्क कर उन्हे रेलवे की आकर्षक योजनाओं से अवगत कराएगा। इस यूनिट के माध्यम से यह बताने की कोशिश की जा रही है कि रेलवे से माल ढुलाई और दूसरे परिवहन साधनों से बेहतर और विश्वसनीय होने के साथ ही कम खर्चीला भी है।

बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट करेगी ये काम
बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट रेलवे पर माल ढुलाई को सरल और सुलभ बनाने के लिए व्यवसायिकों के साथ निरन्तर विचार-विमर्श कर लदान बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्राप्त करेगी। व्यापार उद्योग से प्राप्त प्रस्ताव का तत्काल क्षेत्रीय स्तर पर विश्लेषण किया जाएगा और अन्य जोनल रेलवे और रेलवे बोर्ड से यदि आवश्यक हो तो तुरंत सहायता मांगी जाएगी। बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट ऐसे प्रस्तावों की प्राप्ति से एक सप्ताह के समय सीमा मे निर्णय लेगी। उत्तर पश्चिम रेलवे मुख्यालय जयपुर,अजमेर, जोधपुर और बीकानेर में बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट का गठन किया गया है।